अलवर में बिना आवेदन मिल रहा था आर्म्स लाइसेंस, जांच में फर्जीवाड़े का बड़ा खुलासा


अलवर के कलेक्टर कार्यालय (Alwar Collectorate Office) में फर्जी हथियार लाइसेंस (Fake Arms License) बनाने के गोरखधंधो का पर्दाफाश हुआ है। इसकी शुरुआती जां में तीन लाइसेंस फर्जी पाये जा चुके हैं और कलेक्टर कार्यालय के सहायक प्रशासनिक अधिकारी दुर्गेश चोला को निलम्बित कर दिया गया है।

Edited By Sambrat Chaturvedi | Lipi | Updated:

अलवर में फर्जी हथियार लाइसेंस मामला उजागर।
हाइलाइट्स
  • अलवर में फर्जी कलेक्टर के हस्ताक्षर और मुहर से हथियार लाइसेंस जारी करने के गोरखधंधे का खुलासा।
  • कलेक्टर कार्यालय के सहायक प्रशासनिक अधिकारी दुर्गेश चोला निलम्बित।
  • कोतवाली थाने में एडीएम सिटी ने 2 कर्मचारियों के खिलाफ दर्ज कराया मामला।
  • दुगेश चोला और कम्प्यूटर ऑपरेटर सुशील अरोड़ा के खिलाफ मामला दर्ज।
  • जांच में अब तक 3 फर्जी लाइसेंस जारी करने हुआ खुलासा।

अलवर

राजस्थान के अलवर जिले में जिला कलेक्टर कार्यालय में बिना आवेदन और प्रमाण पत्रों के आर्म्स के लाईसेंस बनाने गोरखधंधे का खुलासा हुआ है। हथियारों के फर्जी लाइसेंस का यह खतरनाक खेल कलेक्टर सहित सभी अधिकारियों की नाक के नीचे चलने के बावजूद किसी को इसकी भनक नहीं लगी। यही कारण है कि सवाल कलेक्टर कार्यालय पर भी उठ रहे हैं कि आखिरकार कैसे ऐसा खेल कलेक्टर कार्यालय में चल सकता है, जिसमें खुद केलक्टर के भी फर्जी दस्तख्त किए जा रहे थे और हथियारों के लाइसेंस उनके कार्यालय में तैनात कर्मचारी जारी कर रहे थे।

ये भी पढ़ें- Corona Update: 67 और लोग संक्रमित,अब तक 349 की मौत, देखें-सूची


इस पूरे मामले में कलेक्ट्रेट के गोपनीय दस्तावेजों ओर कलक्ट्रेट से जारी होने वाले लाइसेंस ओर अन्य प्रमाण पत्रों की प्रमाणिकता खतरे में है। डीएम के फर्जी हस्ताक्षर और मुहर का स्तेमाल करते हुए फर्जी हथियार बनाने का खेल का खुलासा होने से कलक्ट्रेट कार्यालय में हड़कंप मचा हुआ है। जिला कलेक्टर ने फर्जी आर्म्स लाइसेंस नेटवर्क का भंडाफोड़ होने के बाद कलेक्ट्रेट कार्यालय के सहायक प्रशासनिक अधिकारी दुर्गेश चाेला काे निलंबित कर दिया गया है जबकी सविंदा पर लगे कम्यूटर ऑपरेटर को हटा दिया गया है। दोनों के खिलाफ केे एडीएम शहर उत्तम सिंह शेखावत के द्वारा कोतवाली थाने में मामला दर्ज करवाया गया है।

फिलहाल कोतवाली थाना पुलिस जांच कर दोनों आरोपीयो की तलाश में जुटी हुई है। इस मामले की विस्तृत जांच के लिए जिला कलेक्टर ने एडीएम के नेतृत्व में कमेटी का गठन किया है जो सभी जारी लाइसेंस के दस्तावेजों की जांच करेगी। प्रारंभिक जांच में 3 आर्म्स लाइसेंस फर्जी पाए जा चुके हैं। अलवर जिला कलेक्टर के फर्जी हस्ताक्षर और स्टाम्प मुहर लगा कर जिला मजिस्ट्रेट कार्यालय में हथियार लाइसेंस बनाने सम्बंधित शाखा का रिकॉर्ड को सील कर दिया है और कमरे पर ताला जड़ दिया गया है। मामले की जांच 3 सदस्यीय कमेटी को सौपी गई है।

ये भी पढ़ें- इंजीनियरिंग की पढ़ाई , फिर नौकरी लेकिन योग में ऐसा मन रमा, कि इसे ही बना लिया करियर

​फ्रेंड्स से लेकर फैमिली सब खुश

  • 21वीं सदी में करियर बनाने के दबाव के बावजूद युवाओं का योग के प्रति बढ़ते रुझान से ना केवल सिरोही की इस बेटी पल गहलोत के फ्रेंड्स खुश हैं ,बल्कि मां बाप भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योग के क्षेत्र में परचम लहराती अपनी बेटी को लेकर भी गदगद हैं। हर कोई पल के योग के प्रति सच्ची निष्ठा और हुनर का दीवाना है।

  • कोरोना की महामारी के बावजूद फ्रांस, जर्मनी, मैक्सिको, चीन, उरूग्वे, अर्जेंटीना, स्विजरलैंड, फ्रेंच पोलिनेशिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, इटली व स्पेन के छात्र सिरोही की इस बेटी से योग की शिक्षा ले रहे हैं । आगामी दिनों में नेपाल, थाईलैंड व श्रीलंका में योग शिविर लेने के बाद अब क्रोएशिया व अल्बानिया में योग शिविर होंगे।

  • पल गहलोत ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा सिरोही से की। इसके बाद जोधपुर जाकर इंजीनियर की पढ़ाई की और इंजीनियर बनके नौकरी भी हासिल कर ली, मगर अचानक योग की तरफ मनप्रवाह हो गया कि ऋषिकेश में आज विन्यासा योग एकेडमी में देश और दुनिया के लोगों को योग की शिक्षा दे रही है।

  • योग शिक्षिका के रूप में अब अपनी पहचान बनाने वाली पल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी योग के माध्यम से अपनी ख्याति बना चुकी है। सिरोही की इस बेटी के संयुक्त राष्ट्र अमेरिका, इटली, स्पेन, फ्रांस व जर्मनी सहित कुल 11 देशों में योग के छात्र हैं , जिन्हें इन दिनों लॉकडाउन व कोरोना की महामारी के चलते ऑनलाइन योग की शिक्षा दे रही है।

अतिरिक्त जिला कलेक्टर अलवर शहर उत्तम सिंह शेखावत ने बताया कि दो कर्मचारियों के खिलाफ फर्जी हथियार लाइसेंस जारी करने के दोषी पाए जाने पर दुर्गेश चोला ओर सुशील अरोड़ा के खिलाफ कोतवाली थाने में मामला दर्ज करवाया है। इसके अलावा निष्पक्ष जांच करवाने के लिए जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने जिला कलेक्टर कार्यालय के सहायक प्रशासनिक अधिकारी दुर्गेश चाेला काे निलंबित कर दिया गया है। जबकि संविदाकर्मी कंप्यूटर ऑपरेटर सुशील अरोड़ा की सेवाएं समाप्त कर दी गई। वह चिकित्सा विभाग से डेपुटेशन पर लगा हुआ था।

कोतवाली थानाधिकारी अध्यात्म गौतम ने बताया कि एडीएम सिटी उत्तम सिंह शेखावत ने रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसके मुताबिक 19 जून काे अलवर शहर के विवेकानंद नगर निवासी संतोष मीणा ने जिला कलेक्टर कार्यालय में प्रार्थना पत्र देकर अपने आर्म्स लाइसेंस की सत्यता की जानकारी मांगी थी। प्रार्थना पत्र के बाद जांच की गई तो उसका आर्म्स लाइसेंस 18 अप्रैल 2019 काे जारी हुआ था। आर्म्स के सम्बंधित पत्रवाली का रिकॉर्ड की जांच की गई, ताे उसमें इस लाइसेंस का काेई रिकॉर्ड या दस्तावज ताे दूर बात है उसका आवेदन भी कार्यालय के रिकॉर्ड में नहीं मिला। आर्म्स लाइसेंस में जारीकर्ता जिला कलेक्टर के हस्ताक्षर और मुहर भी फर्जी मिली। इसके बाद अन्य दस्तावेजो कि जांच की गई तो कोटकासिम क्षेत्र के पुर गांव निवासी गोविंद सिंह और उत्तम सिंह के हथियार लाइसेंस फर्जी पाए गए हैं।

ये भी पढ़ें- सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में करणी सेना ने किया ‘जंग’ का ऐलान

सुशांत सिंह की मौत मामले में करणी सेना का वीडियो वायरलजयपुर। बॉलीवुड स्टार सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर करणी सेना के अध्यक्ष महिपाल सिंह मकराना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। महिपाल सिंह ने इस वीडियो में कहा है कि यदि क्षत्रियों को साथ देंगे तो क्षत्रिय आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर आपके साथ खड़ा रहेगा। उन्होंने राजपूतों के प्रति व्यवहार पर सवाल उठाते हुए कहा है कि, ‘पूरे देश में क्या चल रहा है क्षत्रियों के खिलाफ? आप देख लिजिए। सुशांत सिंह का मुद्दा ज्वलंत है। सुशांत सिंह ने भले ही पद्मावती मुद्दे पर अपना सरनेम (राजपूत) हटा लिया था लेकिन दो दिन बाद समाज से माफी मांगकर सरनेम लगा भी लिया था। सुशांत ने राजपूत सरनेम नहीं भी लगाया हो तो हमारा भाई था, हम आपस में घर में कैसे भी झगड़े’।करणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि ‘उसको आत्महत्या करने के लिए मजबूर किया गया। तो यहीं की वो जो असमानताएं हैं, यहीं के वो जो लोग हैं जिनके चक्कर में सुशांत सिंह ने ‘राजपूत’ शब्द हटाया। उन्हीं लोगों ने उनको मरवा दिया। इतनी टेंशन दे दी। आप देखिए राजपूत के साथ किस तरह का व्यवहार पूरे देश में हो रहा है। राजपूतों को चुन चुनकर जो आगे हैं उनको डिमोरलाइज किया जा रहा है। उनको बकायदा इतना ज्यादा प्रताड़ित किया जा रहा है कि कोई आत्महत्या कर रहा है, कोई हत्या हो रही है। और कोई यहां से भाग जा रहा है। कि यहां से चले जाएं तो ठीक रहे।
Web Title fake arms license scam busted in alwar rajasthan(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें



Source link

admin

Recent Posts

कानपुर शूटआउट: फरीदाबाद के होटल में पुलिस रेड, देखिए CCTV फुटेज में कहीं ये विकास दुबे तो नहीं?

लखनऊ/फरीदाबाद. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) के बिकरू गांव में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में फरार गैंगस्टर विकास दुबे…

19 mins ago

COVID-19 Update: राजस्थान में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों की संख्‍या हुई 21404, अब तक 472 लोगों की मौत

राज्य में संक्रमण से मरने वालों की संख्या बढ़कर 472 हो गयी है. राजस्थान ( Rajasthan) में मंगलवार को कोरोना…

42 mins ago

OPINION: चौथी बार मुख्यमंत्री बने शिवराज सिंह चौहान सभी को साधने की कला भूल गए!

भोपाल. शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chouhan) सबको साधने की अपनी खूबी के कारण ही मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में चौथी…

52 mins ago

भड़के लोगों ने जिओ स्विच गिराया, लाइन के उड़े जंपर

खंडवाला बिजलीघर से नहीं मिली 2 मिनट की ट्रिपिंग10 मिनट का काम, साढे़ 5 घंटे बंद रही सप्लाई दैनिक भास्करJul…

57 mins ago

निजामुद्दीन मरकज: दिल्ली की अदालत ने 122 मलेशियाई नागरिकों को जमानत दी दिल्ली समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

प्रतिनिधि छविनई दिल्ली: दिल्ली की एक अदालत ने मंगलवार को 122 मलेशियाई नागरिकों को जमानत दे दी, जिन्हें तब्लीगी हज़रत…

1 hour ago

BJP नेता की फिसली जुबान, कहा- बिजली कनेक्शन काटने आने वालों का मुंह काला कर गांव के बाहर निकाल दो

बीजेपी नेता भवानी सिंह राजावत ने प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व करते हुए राजस्थान की कांग्रेस सरकार पर तीखे हमले किए भवानी…

2 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts