इजराइली ड्रोन से निगरानी, स्पेशल ट्रूप्स की तैनाती…LAC पर चीन के खिलाफ अभूतपूर्व तैयारी


Edited By Shreyansh Tripathi | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

भारत-चीन तनाव के बीच आज लेह का दौरा करेंगे सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे
हाइलाइट्स
  • LAC के पास के इलाके में इजराइल के Heron ड्रोन से निगरानी कर रही भारतीय सेना
  • यूएस या इजराइल से आर्म्ड ड्रोन भी लेने की तैयारी, एलएसी पर पूरी तैयारी के साथ खड़े हैं जवान
  • वास्तविक नियंत्रण रेखा के इलाकों में ऊंचे पर्वतीय क्षेत्रों में लड़ने के लिए ट्रेंड जवानों की तैनाती

लेह/श्रीनगर

वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बनी तनावपूर्ण स्थितियों के बीच चीन की हरकतों की निगरानी के लिए सेना और एयरफोर्स पूरी चौकसी बरत रहे हैं। गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुए संघर्ष (Galwan Valley Clash) के बाद इस इलाके में निगरानी के लिए अब उन मानवरहित ड्रोन्स (Isreal Drones in India) को लगा दिया गया है, जिन्हें बीते दिनों मोदी सरकार ने इजराइल से खरीदा था।

एलएसी पर सेना के साथ भारत तिब्बत सीमा पुलिस (Ladakh Situations) के जवानों को भी फॉरवर्ड इलाकों में भेजा गया है। इसके अलावा उच्च पर्वतीय क्षेत्र (High Altitude War Area) में लड़ने की ट्रेनिंग लेने वाली घातक टीमों को भी सेना के साथ फॉरवर्ड लोकेशंस पर भेजा जा चुका है। ITBP को सेना के साथ लेह के इलाकों में भेजने का फैसला डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस ले. जनरल परमजीत सिंह और आईटीबीपी (Indian Army in Ladakh) के डीजी एसएस देसवाल के लेह दौरे के बाद हुआ है।

दोनों उच्च अधिकारियों के साथ सेना की 14वीं कोर के कमांडर ले. जनरल हरिंदर सिंह भी लेह पहुंचे थे, जहां उन्होंने वरिष्ठ अफसरों को यहां की सामरिक तैयारियों पर फीडबैक दिया।

भारत को फंसाना चाहते थे चीन-पाक, US ने साजिश की फेल

इजराइल से और आर्म्ड ड्रोन खरीदने की तैयारी

नरेंद्र मोदी सरकार ने भारतीय सेना को चीनी सेना की किसी भी नापाक हरकत से अपने तरीकों पर निपटने की पूरी छूट दे दी है। इसके अलावा फोर्सेज को 500 करोड़ रुपये का स्पेशल फंड भी दिया गया है, जिससे कि आपात स्थिति में किसी भी तरह के हथियार खरीदे जा सकें। इसके अलावा चीनी पीएलए की तरह जल्दी ही आर्म्ड ड्रोन्स खरीदने की तैयारी भी की जा रही है। इसके लिए जल्द ही यूएस या इजराइल से एक डिफेंस डील की जा सकती है।

लेह-लद्दाख में 1999 के करगिल जैसे हालात

IAF ने LAC पर झड़प के बाद लद्दाख में एयर पैट्रोलिंग बढ़ा दी है। इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, लेह के लोगों की नींद सुबह IAF के लड़ाकू विमानों की गड़गड़ाहट से खुलती है। उनके लिए यह सबकुछ 1999 के मई-जुलाई जैसा है जब करगिल युद्ध के दौरान इतनी सक्रियता देखने को मिली थी। IAF के ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट और हेलिकॉप्‍टर्स लगातार इन एरियाज में चक्‍कर लगा रहे हैं। जम्‍मू और कश्‍मीर, पंजाब और हरियाणा के ऐडवांस एयर बेसेज पर फाइटर एयरक्राफ्ट तैनात किए गए हैं।

‘लद्दाख के शेर’ ने बताया- चीन से निपटने के लिए क्या करे सरकार‘लद्दाख के शेर’ कहे जाने वाले कर्नल (रिटायर्ड) सोनम वांगचुक ने कहा है कि सरकार को लद्दाख स्काउट्स के और बटालियन तैयार करने चाहिए, क्योंकि इसके जवान यहां के हालात के ज्यादा वाकिफ होते हैं और चीन की सेना से बेहतर तरीके से निपट सकते हैं।

करगिल में मिले अनुभव बनेंगे मददगार

आईटीबीपी के अलावा उन जवानों को भी एलएसी के पास के इलाकों में भेजा जा रहा है, जिन्हें उच्च पर्वतीय इलाकों का अनुभव हो। इसके अलावा करगिल के वक्त में लेह और द्रास के इलाकों में हुए सामरिक अनुभव भी फौज के लिए बड़ी मदद का जरिया बन सकते हैं।

चीन सीमा पर आर्मी चीफ नरवणे, जानें प्‍लान

ऊंचे इलाकों में रहने वालों को मिलेगा फायदा

भारतीय सेना के पूर्व अध्यक्ष रहे एक अधिकारी ने कहा कि पहाड़ी इलाकों में लड़ाई के हालात आम जंग से बिल्कुल अलग होते हैं। इस लड़ाई में ऊंचे इलाके में रहे जवानों को एडवाटेंड मिल सकता है। भारत के तमाम इलाके ऐसे हैं, जहां लंबे वक्त से सेना उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में रह चुकी है। ऐसे में भारतीय सेना को चीन की सेना से अनुभव के आधार पर ज्यादा फायदा मिल सकता है।

जवानों को पूरी छूट

लद्दाख के वर्तमान हालात क्या हैं, इसे लेकर अभी सरकार बहुत कुछ पब्लिक डोमेन में लाने के पक्ष में नहीं है। हालांकि ये जरूर है कि चीन की किसी भी हरकत पर जवानों को एक कदम भी पीछे ना हटने और पूरी तैयारी के साथ जवाब देने के लिए सशक्त किया जा रहा है।

Heron ड्रोन से हो रही निगरानी (फाइल फोटो)



Source link

admin

Recent Posts

बठिंडा के महेश अग्रवाल चेन्नई में पुलिस कमिश्नर नियुक्त

तमिलनाडु काडर में 1994 बैच के सबसे युवा एएसपी बने थे, पुलिस व सीएम मेडल से हो चुके सम्मानित दैनिक…

29 mins ago

उत्तराखंड की जनता से धोखा है देहरादून में एक और विधानसभा भवन का निर्माणः हरीश रावत

देहरादून. उत्तराखंड संभवतः देश का अकेला ऐसा राज्य है जो अपने अस्तित्व में आने के 20 साल बाद भी अभी…

1 hour ago

गवर्नमेंट टीचर यूनियन ने मांगों को लेकर विधायक आवास तक रोष मार्च निकाला, किया प्रदर्शन

गवर्नमेंट टीचर यूनियन ने अपनी मांगों को लेकर निकाला रोष मार्च दैनिक भास्करJul 06, 2020, 06:27 AM ISTदिड़बा. अपनी मांगों…

2 hours ago

2 करोड़ 4 लाख से होगा गांव का विकास, खेलो इंडिया के तहत स्पोर्ट्स कांप्लेक्स भी बनाया जाएगा

गांव मर्दाहेड़ी के शहीद सलीम खान को उनके भोग पर दी श्रद्धांजलि दैनिक भास्करJul 06, 2020, 06:09 AM ISTपटियाला/समाना. भारत…

2 hours ago

PM मोदी 10 जुलाई को राष्ट्र को समर्पित करेंगे एशिया की सबसे बड़ी सौर परियोजना

रीवा अल्ट्रा मेगा सौर परियोजना को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से लोकार्पित कर राष्ट्र को समर्पित…

3 hours ago

Rajasthan Weather Alert: सावन के पहले दिन इन 7 जिलों में हो सकती है भारी बारिश, मौसम विभाग ने जारी की चेतावनी

जयपुर. राजस्थान में मानसून (Monsoon) सक्रिय है और इसके चलते प्रदेश के कई इलाकों में बारिश (Rain) का दौर जारी है.…

3 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts