कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की शहादत के जिम्मेदार विकास दुबे ने 19 साल पहले किया था ऐसा ही दुस्साहस


हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे पर दर्जनों मामले यूपी के अलग-अलग जिलों मे दर्ज हैं

कानपुर देहात के चौबेपुर थाना क्षेत्र के विकरू गांव का निवासी विकास दुबे के बारे में बताया जाता है इसने कई युवाओं की फौज तैयार कर रखी है. इसी के साथ वह वह कानपुर नगर (Kanpur Nagar) से लेकर कानपुर देहात (Kanpur Dehat) तक लूट, डकैती, मर्डर जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम देता रहा है.

कानपुर. उत्तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) में दबिश देने गई पुलिस टीम पर हमला कर 8 पुलिसकर्मियों को शहीद करने वाले हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे (Vikas Dubey) का जघन्य अपराध का इतिहास रहा है. बचपन से ही वह अपराध की दुनिया में अपना नाम बनाना चाहता था. पहले उसने गैंग बनाया और लूट, डकैती, हत्याएं करने लगा. 19 साल पहले उसने थाने में घुसकर एक दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री की हत्या की और इसके बाद उसने राजनीति में एंट्री लेने की कोशिश की थी. लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी. विकास कई बार गिरफ्तार हुआ, एक बार तो लखनऊ में एसटीएफ ने उसे दबोचा था.

कानपुर देहात के चौबेपुर थाना क्षेत्र के विकरू गांव का निवासी विकास के बारे में बताया जाता है इसने कई युवाओं की फौज तैयार कर रखी है. इसी के साथ वह वह कानपुर नगर से लेकर कानपुर देहात तक लूट, डकैती, मर्डर जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम देता रहा है. जानकारी के अनुसार कानपुर में एक रिटायर्ड प्रिंसिपल सिद्धेश्वर पांडेय हत्याकांड में इसको उम्र कैद हुई थी.

कहलाता था शिवली का डॉन

यही नहीं पंचायत और निकाय चुनावों में इसने कई नेताओं के लिए काम किया और उसके संबंध प्रदेश की सभी प्रमुख पार्टियों से हो गए. 2001 में विकास दुबे ने बीजेपी सरकार में एक दर्जा प्राप्त राज्यमंत्री संतोष शुक्ला को थाने के अंदर घुसकर गोलियों से भून डाला था. इस हाई-प्रोफाइल मर्डर के बाद शिवली के डॉन ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया और कुछ माह के बाद जमानत पर बाहर आ गया.नगर पंचायत चुनाव जीता

इसके बाद इसने राजनेताओं के सरंक्षण से राजनीति में इंट्री की और नगर पंचायत अध्यक्ष का चुनाव जीत गया था. जानकारी के अनुसार इस समय विकास दुबे के खिलाफ 52 से ज्यादा मामले यूपी के कई जिलों में चल रहे हैं. पुलिस ने इसकी गिरफ्तारी पर 25 हजार का इनाम रखा हुआ था. हत्या व हत्या के प्रयास के मामले पर पुलिस इसकी तलाश कर रही थी.

लखनऊ में एसटीफ ने पकड़ा था

विकास दुबे पुलिस से बचने के लिए लखनऊ स्थित अपने कृष्णा नगर के घर पर छिपा हुआ था. शासन ने कुख्यात हिस्ट्रीशीटर को पकड़ने के लिए लखनऊ एसटीएफ को लगाया था. कुछ समय पहले ही एसटीएफ ने उसे कृष्णा नगर से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. अब एक बार फिर जेल से निकलने के बाद ये फरार हो गया.

First published: July 3, 2020, 6:57 AM IST





Source link

admin

Recent Posts

तेजी से कम होगा वजन, बस इन 6 सब्जियों के जूस का करें सेवन

मोटापा (Obesity) आज एक गंभीर समस्या है. यह कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है जो कभी-कभी घातक भी हो…

1 hour ago

दिल्ली की कोविद यात्रा: 165 दिनों में पहले मामले से लेकर 1.5 लाख तक | दिल्ली समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

NEW DELHI: 2 मार्च को पहला मामला सामने आने के 165 दिनों के बाद, दिल्ली में शुक्रवार को टैली ने…

2 hours ago

Independence Day Celebration in Jharkhand: मोरहाबादी मैदान में हेमंत सोरेन ने फहराया तिरंगा, कोरोना योद्धाओं का किया सम्मानित

राष्ट्र आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस (74th Independence Day) मना रहा है। इस मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान…

3 hours ago

करीब पांच महीने तक निलंबित रहने के बाद रविवार को पुन: आरंभ होगी वैष्णो देवी यात्रा

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 15…

4 hours ago

Jharkhand News: गलवान घाटी में शहीद कुंदन ओझा की पत्नी को सरकार ने सौंपा 10 लाख का चेक

साहिबगंज/रांचीलद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए साहिबगंज के कुंदन ओझा की पत्नी…

5 hours ago

सपा राज में आजम खान की भैंसे ढूंढने वाली पुलिस अब भाजपा मंत्री की मछलियां खोजने में जुटी!

भाजपा मंत्री के तालाब से 30 हजार मछलियां चोरी उत्तराखंड सरकार (Government of Uttarakhand) की मंत्री रेखा आर्य (Minister Rekha…

7 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts