Categories: हरियाणा

कोरोना काल में उम्मीद की किरण: बिजली खपत बता रही है उद्योगों में सुधरने लगे हालात

यहां के उद्योगों में सामान्य स्थिति की ओर बढ़ रहा कामकाज (File Photo)

काम पर लौटे 40.5 लाख औद्योगिक मजदूर, 82 प्रतिशत तक पहुंची इंडस्ट्रियल बिजली की खपत, कोरोना संकट के बीच राहत की खबर

नई दिल्ली. कोरोना काल में कामकाज पटरी पर आने की एक सकारात्मक खबर है. इंडस्ट्री के हालात धीरे-धीरे सुधरने लगे हैं. ऐसे में उम्मीद करनी चाहिए कि अगले कुछ माह में बेरोजगारी (Unemployment rate) की दर भी कम होगी. दिल्ली से सटे हरियाणा के दो प्रमुख औद्योगिक शहरों में बढ़ रही बिजली की खपत बता रही है कि फैक्ट्रियों में कामकाज चल रहा है. कुछ उद्योगपति मैन पावर की कटौती के लिए यह कह सकते हैं कि काम पहले जैसा नहीं है, लेकिन कोई भी इंडस्ट्री यूं ही बिजली की खपत नहीं करेगी.

फरीदाबाद में ज्यादातर कंपनियां ऑटोमोइल सेक्टर (Automobile sector) से जुड़ी हुई हैं. यहां पर जून 2019 में औद्योगिक बिजली की खपत 1306 लाख यूनिट थी. जबकि इस साल 1148 लाख यूनिट खर्च हुई है. मतलब साफ है कि पिछले साल के मुकाबले कंपनियों में इस साल 70 फीसदी से अधिक काम चल रहा है.

ये भी पढ़ें: तीन गुना अधिक मिलती है इस धान की कीमत, जानिए काला नमक के बारे में सबकुछ

साइबर सिटी गुरुग्राम की बात करें तो यहां जून 2019 में करीब 15 करोड़ यूनिट बिजली की खपत उद्योगों में हुई थी. जबकि इस साल 11.5 करोड़ से कुछ अधिक हुई है. बिजली का खर्च इंडस्ट्री चलने का सबसे बड़ा इंडीकेटर है. गुरुग्राम और फरीदाबाद के कई उद्योगों में 12-12 घंटे की शिफ्ट चल रही है.

बिजली की खपत अब बढ़ने लगी है (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पूरे हरियाणा की बात करें तो यहां पर औद्योगिक क्षेत्र में बिजली (Industrial electricity) की खपत लगभग 82 प्रतिशत तक पहुंचने लगी है. हरियाणा में फरीदाबाद, गुरुग्राम के अलावा अंबाला, पानीपत, सोनीपत, रेवाड़ी और यमुना नगर औद्योगिक स्टेट हैं.

दोबारा काम पर लौटने लगे मजदूर

महाराष्ट्र जैसे प्रदेशों के मुकाबले हरियाणा में काफी कम महज 15,509 कोरोना पॉजिटिव (Corona cases) केस हैं. इसलिए यहां आर्थिक गतिविधियों को पटरी पर लाना अपेक्षाकृत आसान है. हरियाणा के सीएम कार्यालय का दावा है कि औद्योगिक मजदूर दोबारा काम पर लौट रहे हैं. अब तक 40.5 लाख मजदूर काम पर आ चुके हैं. वैट कलेक्शन भी 75 फीसदी पर पहुंच गया है.

ये भी पढ़ें: आवेदन के बावजूद 12 लाख किसानों को नहीं मिलेगा PM-किसान स्कीम का लाभ

इस माह के अंत तक सामान्य हो सकते हैं हालात

आईएम एसएमई ऑफ इंडिया के चेयरमैन राजीव चावला का कहना है कि हरियाणा में कोरोना केस अपेक्षाकृत कम होने की वजह से ही यहां के उद्योग तेजी से सामान्य स्थिति की ओर बढ़ रहे हैं. जुलाई के अंत तक काफी उद्योग सामान्य या उससे अधिक काम करने लग जाएंगे. सबकुछ ठीक चला तो अक्टूबर तक इतना प्रोडक्शन हो जाएगा कि उद्योग पिछले साल जैसी स्थिति पर आ जाएंगे.

First published: July 3, 2020, 5:44 PM IST



Source link

admin

Recent Posts

बाबरी विध्वंस केस: भगोड़ा घोषित ओपी पांडे CBI कोर्ट में हाजिर, राम मंदिर भूमि पूजन के लिए आया था अयोध्या

अयोध्या के बाबरी विध्वंस केस में फरार आरेापी ओपी पांडे कोर्ट में हाजिर हो गया है. सीबीआई कोर्ट (CBI Court)…

31 mins ago

बीएसई 122 अंक और निफ्टी 52 पॉइंट ऊपर खुला, ल्यूपिन के शेयर में 8% से ज्यादा की बढ़त

शुक्रवार को कारोबार के आखिरी दिन पैटई 122.45 अंक और निफ्टी 52.85 पॉइंट की बढ़त के साथ खुला। इससे पहले…

34 mins ago

हरियाणा: Cyber क्राइम करने वालों पर कसेगा शिकंजा, पुलिस हर जिले में बनाएगी Cyber रिस्पांस सेंटर

हरियाणा पुलिस साइबर क्राइम करने वालों से अब ऐसे निपटेगी. हरियाणा (Haryana) में अब साइबर क्राइम करने वालों की खैर…

2 hours ago

हिमाचल पुलिस की उपलब्धि :SP साइबर क्राइम संदीप धवल को केंद्रीय गृहमंत्री पदक सम्मान

हिमाचल के एसपी क्राइम संदीप धवल. Police Medal For SP Crime: घोटाले के मुख्य आरोपी कंपनी के मालिक राकेश कुमार…

2 hours ago

इन योगासनों से महिलाएं खुद को रख सकती हैं सेहतमंद

घर की सबसे बड़ी जिम्मेदारी महिलाओं पर होती है क्योंकि परिवार के सभी सदस्यों का ख्याल महिलाओं को ही रखना…

2 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts