Categories: हरियाणा

कोरोना के चलते पौराणिक सरोवर में स्नान नहीं कर पाए श्रद्धालु, कभी भगवान श्रीकृष्ण ने भी लगाई थी डुबकी

  • पौराणिक महत्व के चलते ग्रहण पर कुरुक्षेत्र स्नान करने पहुंचते हैं श्रद्धालु, इस बार कोरोना के चलते रोक
  • मान्यता और शास्त्रों के अनुसार, सूर्य ग्रहण के समय सभी देवता यहां कुरुक्षेत्र में मौजूद रहते हैं

दैनिक भास्कर

Jun 21, 2020, 02:24 PM IST

कुरुक्षेत्र. साल 2020 का पहला सूर्य ग्रहण 21 जून को लगा। हरियाणा में ग्रहण सुबह 10 बजकर 20 मिनट पर आरंभ हुआ और 1 बजकर 47 मिनट 14 सेकेंड पर खत्म हुआ। पौराणिक काल से यह पहली बार है कि कुरुक्षेत्र में ब्रह्मसरोवर व सन्निहित सरोवर पर श्रद्धालु स्नान के लिए नहीं पहुंचे हों। ऐसा कोरोना की वजह से हुआ है। जिला प्रशासन ने आमजन को इसकी अनुमति नहीं दी। चंद साधु-संतो को अनुमति मिली, वो भी इसलिए कि इस सरोवर की पौराणिक मान्यता न टूटे। इससे पहले आदिकाल से यहां ग्रहण के समय स्नान का महत्व रहा है।

सन्निहित सरोवर के किनारे पर स्थित यह मंदिर पौराणिक है।

कुरुक्षेत्र के सन्निहित सरोवर पर तीर्थ पुरोहित पंडित पवन शर्मा बताते हैं कि इस कुंड में डुबकी लगाने से उतना ही पुण्‍य प्राप्‍त होता है, जितना पुण्‍य अश्‍वमेघ यज्ञ को करने के बाद मिलता है। यह कुंड, 1800 फीट लम्‍बा और 1400 फीट चौडा है। शास्त्रों के अनुसार, सूर्यग्रहण के समय सभी देवता यहां कुरुक्षेत्र में मौजूद होते हैं। यह भी मान्यता है कि सूर्यग्रहण के अवसर पर ब्रह्मा सरोवर और सन्निहित सरोवर में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

ग्रहण पर श्री कृष्ण ने भी किया था स्नान
पंडित पवन शर्मा ने बताया कि द्वापर युग में ग्रहण के दौरान भगवान श्रीकृष्ण भी कुरुक्षेत्र में आए थे। भारत के कई प्रदेशों अंग, मगद, वत्स, पांचाल, काशी, कौशल के कई राजा-महाराजा बड़ी संख्या में स्नान करने कुरुक्षेत्र आए थे। द्वारका के दुर्ग को अनिरुद्ध व कृतवर्मा को सौंपकर भगवान श्रीकृष्ण, अक्रूर, वासुदेव, उग्रसेन, गद, प्रद्युम्न, सामव आदि यदुवंशी व उनकी स्त्रियां भी कुरुक्षेत्र स्नान के लिए आई थीं। तभी बृजभूमि से गोपियां भी स्नान करने पहुंची थी। इस स्नान के दौरान ही उनकी भगवान श्रीकृष्ण से भेंट हुई थी। तब भगवान श्रीकृष्ण उन्हें रथ में बैठाकर खुद चलाते हुए मथुरा गए थे।

कोरोना की वजह से इस बार सूर्य ग्रहण पर सन्निहित सरोवर सूना पड़ा है।

सूर्य ग्रहण के चलते ही सन्निहित सरोवर बनाया गया
पंडित पवन शर्मा ने बताया कि सूर्य ग्रहण पर सन्निहित सरोवर के पौराणिक महत्व के चलते यहां श्री सूर्य नारायण मंदिर बनाया गया है। इस मंदिर का निर्माण भी इसी वजह से करवाया गया था। सरोवर में स्नान के बाद श्रद्धालु इस मंदिर में पूजा अर्चना करते हैं।

Source link

admin

Recent Posts

सेना के जवानों को फेसबुक-इंस्टाग्राम समेत 89 ऐप डिलीट करने का आदेश, नहीं किया तो होगी कार्रवाई

सेना के 13 लाख स्टाफ से फेसबुक-इंस्टाग्राम अकाउंट डीलीट करने को कहा गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर) ये निर्णय सेना की…

4 mins ago

BS-IV वाहनों पर सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला, 31 मार्च के बाद बीते वाहन का रजिस्ट्रेशन नहीं होगा

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट (भारत के सर्वोच्च न्यायालय) ने बड़ा फैसला सुनाया बीएस-IV (BSIV) वाहनों पर 27 मार्च 2020 के…

19 mins ago

होटल के मैनेजर ने 55 फीट ऊंची छत से कूदकर जान दी, एक दिन पहले ही आया था ड्यूटी पर

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिले के गांव संदोह निवासी अजय कुमार के रूप में हुई मृतक की पहचानखाना पकाने वाले…

28 mins ago

राशिफल आज, 09 जुलाई 2020: मेष, वृष, मिथुन, कर्क और अन्य राशियों के लिए ज्योतिषीय भविष्यफल देखें – Times of India

अपना पढ़ो राशिफल यह जानने के लिए कि आज सितारों के लिए आपके पास क्या है:मेष राशिआज आप एक साथ…

54 mins ago

हरियाणा के सीएम पहुंचे दिल्ली दरबार, प्रदेशाध्यक्ष की कुर्सी का फांसा पेंच निकलने के आसार

दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष और संगठन के नेताओं के साथ सीएम करेंगे चर्चाहरियाणा में प्रदेशाध्यक्ष का नाम अभी तक नहीं…

1 hour ago

शोध में दावा- कोरोना वायरस से लड़ने में अहम भूमिका निभाता है विटामिन डी

विटामिन डी सामान्य रूप से श्वसन संबंधी बीमारियों से भी सुरक्षा प्रदान करता है. शोध (Research) में कहा गया है…

2 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts