Categories: गुजरात

कोरोना वायरस से प्रभावित परिवार में सभी के संक्रमित होने की आशंका नहीं : अध्ययन


अहमदाबाद, दो अगस्त (भाषा) परिवार के किसी एक सदस्य के कोरोना वायरस संक्रमित होने के बाद घर के सभी सदस्यों का उससे ग्रस्त होना तय मान लेना सही नहीं है क्योंकि गांधीनगर स्थित भारतीय जनस्वास्थ्य संस्थान के अध्ययन में सामने आया कि परिवार में किसी एक सदस्य के कोविड-19 संक्रमित होने के बावजूद घर में रहने वाले 80-90 फीसद सदस्यों को यह बीमारी नहीं होती है। संस्थान के निदेशक दिलीप मावलंकर ने रविवार को पीटीआई-भाषा से कहा कि इससे संकेत मिलता है कि परिवार के अन्य सदस्यों में शायद इस बीमारी के प्रति किसी प्रकार की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो

डिसक्लेमर: यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

भाषा | Updated:

अहमदाबाद, दो अगस्त (भाषा) परिवार के किसी एक सदस्य के कोरोना वायरस संक्रमित होने के बाद घर के सभी सदस्यों का उससे ग्रस्त होना तय मान लेना सही नहीं है क्योंकि गांधीनगर स्थित भारतीय जनस्वास्थ्य संस्थान के अध्ययन में सामने आया कि परिवार में किसी एक सदस्य के कोविड-19 संक्रमित होने के बावजूद घर में रहने वाले 80-90 फीसद सदस्यों को यह बीमारी नहीं होती है। संस्थान के निदेशक दिलीप मावलंकर ने रविवार को पीटीआई-भाषा से कहा कि इससे संकेत मिलता है कि परिवार के अन्य सदस्यों में शायद इस बीमारी के प्रति किसी प्रकार की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो गयी हो। उन्होंने सवालिये लहजे में कहा, ‘‘ यह धारणा कि सभी के कोरोना वायरस की चपेट में आने का खतरा है, सही नहीं हो सकती। कहा जाता है कि महज कुछ मिनट के लिए कोरोना वायरस के संपर्क आने से हम संक्रमित हो जायेंगे। यदि ऐसा होता तो क्यों उसी परिवार के सारे लोगों में कोविड-19 नहीं होता (एक व्यक्ति के संक्रमित होने पर)।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ कुछ ऐसे परिवार हैं जहां सभी सदस्य संक्रमित हैं, लेकिन ऐसे परिवार बहुसंख्य नहीं हैं। ऐसे भी परिवार हैं जहां एक व्यक्ति की कोविड-19 से मौत हो गयी लेकिन कोई अन्य सदस्य संक्रमित नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि यह अध्ययन कोविड-19 के पारिवारिक संक्रमण के विषय पर वैश्विक रूप से प्रकाशित 13 शोधपत्रों की समीक्षा पर आधारित है ‘‘जो दर्शाता है कि परिवार में किसी एक सदस्य के कोविड-19 संक्रमित हो जाने के बाद उसके 80-90 फीसद सदस्यों को यह बीमारी नहीं हुई। इससे संकेत मिलता है कि परिवार के अन्य सदस्यों में शायद इस बीमारी के प्रति किसी प्रकार की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो गयी हो।’’ ‘घरेलू संपर्क में कोविड-19 की माध्यमिक मारक दर: व्यवस्थित समीक्षा’ नामक इस अध्ययन में समीक्षा से गुजरे 13 में से ज्यादातर शोधपत्रों से पता चलता कि परिवार में एक सदस्य से दूसरे सदस्य में संक्रमण की दर (माध्यमिक संक्रमण दर) महज 10 से 15 फीसद है। संस्थान के संकाय सदस्यों कोमल शाह और दीपक सक्सेना के साथ मिलकर संयुक्त रूप से यह अध्ययन लिखने वाले मावलंकर ने कहा कि केवल तीन ऐसे शोधपत्र थे जो 30 फीसद या उससे अधिक की माध्यमिक संक्रमण दर दर्शाते हैं। यह अध्ययन हाल ही में ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड के त्रैमासिक जर्नल ऑफ मेडिसीन में प्रकाशित हुआ है। मावलंकर ने कहा कि इन शोधपत्रों में शामिल भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद के शोधपत्र में परिवार में एक सदस्य से करीब आठ फीसद सदस्यों में संक्रमण फैलने की बात कही गयी है। उन्होंने कहा, ‘‘ कुछ अध्ययनों में पति और पत्नी के बीच संक्रमण का विस्तार से अध्ययन किया गया है जो 45 से 65 फीसद दर्शाया गया हैं । जिन मामलों में बिस्तर साझा किया गया, वहां भी संक्रमण शत प्रतिशत नहीं है।’’ उन्होंने कहा कि परिवार के वयस्क सदस्य से बच्चे में संक्रमण कम होता है जबकि वयस्क से बुजुर्गों में ज्यादा होता है और यह भी 15-20 फीसद है। मावलंकर ने कहा, ‘‘ विभिन्न लोगों में इस वायरस के प्रति अलग अलग प्रतिरोधक क्षमता होती है। परिवार में हम एक दूसरे से दूरी नहीं रखते, न ही मास्क लगाते हैं । लक्षण सामने आने से लेकर जांच तक करीब तीन से पांच दिन का अंतर होता है जिसका मतलब है कि परिवार के सभी सदस्य इस वायरस के संपर्क में आये । लेकिन तब भी सभी संक्रमित नहीं होते।’’

Web Title there is no possibility of everyone being infected in the family affected by corona virus(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें



Source link

admin

Recent Posts

तेजी से कम होगा वजन, बस इन 6 सब्जियों के जूस का करें सेवन

मोटापा (Obesity) आज एक गंभीर समस्या है. यह कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है जो कभी-कभी घातक भी हो…

2 hours ago

दिल्ली की कोविद यात्रा: 165 दिनों में पहले मामले से लेकर 1.5 लाख तक | दिल्ली समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

NEW DELHI: 2 मार्च को पहला मामला सामने आने के 165 दिनों के बाद, दिल्ली में शुक्रवार को टैली ने…

2 hours ago

Independence Day Celebration in Jharkhand: मोरहाबादी मैदान में हेमंत सोरेन ने फहराया तिरंगा, कोरोना योद्धाओं का किया सम्मानित

राष्ट्र आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस (74th Independence Day) मना रहा है। इस मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान…

3 hours ago

करीब पांच महीने तक निलंबित रहने के बाद रविवार को पुन: आरंभ होगी वैष्णो देवी यात्रा

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 15…

4 hours ago

Jharkhand News: गलवान घाटी में शहीद कुंदन ओझा की पत्नी को सरकार ने सौंपा 10 लाख का चेक

साहिबगंज/रांचीलद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए साहिबगंज के कुंदन ओझा की पत्नी…

6 hours ago

सपा राज में आजम खान की भैंसे ढूंढने वाली पुलिस अब भाजपा मंत्री की मछलियां खोजने में जुटी!

भाजपा मंत्री के तालाब से 30 हजार मछलियां चोरी उत्तराखंड सरकार (Government of Uttarakhand) की मंत्री रेखा आर्य (Minister Rekha…

7 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts