Categories: झारखंड

झारखंड के लाल ने कर दिया कमाल, हासिल किया ब्रिटेन का प्रतिष्ठित डायना अवार्ड

Edited By Hrishikesh Singh | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

इस नौजवान के हौसले के आगे हारी गरीबी और मजबूरी
हाइलाइट्स
  • झारखंड के लाल ने कर दिया कमाल
  • गरीबी ने घुटने टेके, मजबूरी ने मानी इसके आगे हार
  • 21 साल के नीरज को मिला ब्रिटेन का प्रतिष्ठित पुरस्कार डायना अवार्ड
  • बाल मजदूरों को छुड़ाया, गरीब बच्चों को पढ़ाया

रांची/गिरिडीह:

कैलाश सत्‍यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन (केएससीएफ) संचालित गिरिडीह जिले के दुलियाकरम बाल मित्र ग्राम के पूर्व बाल मजदूर 21 वर्षीय नीरज मुर्मू को गरीब और हाशिए के बच्‍चों को शिक्षित करने के लिए ब्रिटेन के प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से सम्‍मानित किया गया है। इस अवार्ड से हर साल 09 से 25 उम्र की उम्र के उन बच्‍चों और युवाओं को सम्‍मानित किया जाता है, जिन्‍होंने अपनी नेतृत्‍व क्षमता का परिचय देते हुए सामाजिक बदलाव में असाधारण योगदान दिया हो। नीरज दुनिया के उन 25 बच्‍चों में शामिल हैं जिन्‍हें इस गौरवशाली अवार्ड से सम्‍मानित किया गया। नीरज के प्रमाणपत्र में इस बात का विशेष रूप से उल्‍लेख है कि दुनिया बदलने की दिशा में उन्होंने नई पीढ़़ी को प्रेरित और गोलबंद करने का महत्वपूर्ण काम किया है। कोरोना महामारी सकंट की वजह से उन्हें यह अवार्ड डिजिडल माध्यम के जरिए आयोजित एक समारोह में दिया गया।

गरीबी के बाद भी नीरज ने दिखाया बड़ा जज्बा

गरीब आदिवासी परिवार का नीरज 10 साल की उम्र में ही परिवार का पेट पालने के लिए अभ्रक खदानों में बाल मजदूरी करने लगा। लेकिन, बचपन बचाओ आंदोलन (बीबीए) के कार्यकर्ताओं ने जब उसे बाल मजदूरी से मुक्‍त कराया, तब उनकी दुनिया ही बदल गई। गुलामी से मुक्त होकर नीरज सत्यार्थी आंदोलन के साथ मिलकर बाल मजदूरी के खिलाफ अलख जगाने लगा। अपनी पढ़ाई के दौरान उसने शिक्षा के महत्व को समझा और लोगों को समझा-बुझा कर उनके बच्चों को बाल मजदूरी से छुड़ा स्कूलों में दाखिला कराने लगा। ग्रेजुएशन की पढ़ाई जारी रखते हुए उसने गरीब बच्चों के लिए अपने गांव में एक स्‍कूल तक खोल लिया है। इस स्कूल में नीरज तकरीबन 200 बच्‍चों को समुदाय के साथ मिलकर शिक्षित करने में जुटा है। नीरज ने 20 बाल मजदूरों को भी अभ्रक खदानों से मुक्‍त कराया है।

नीरज को डायना अवार्ड मिलने पर केएससीएफ की कार्यकारी निदेशक (प्रोग्राम) श्रीमती मलाथी नागासायी अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहती हैं- हमें गर्व है कि नीरज ने पूर्व बाल श्रमिकों के बीच शिक्षा को बढ़ावा देने की महत्वपूर्ण पहल की है। वह हमारे बाल मित्र ग्राम के बच्चों के लिए एक आदर्श है, जहां का हर बच्चा अपने आप में एक सशक्‍त नेता है और अपने अधिकारों को हासिल करने के साथ अपने गांव के विकास के लिए तत्‍पर और संघर्षशील है।’

नीरज ने अपने दम पर हासिल किया मुकाम

बाल मजदूरी के अपने अनुभव से नीरज को यह एहसास हुआ कि जब तक उसके जैसे गरीब-आदिवासी बच्‍चों को शिक्षा की सुविधा उपलब्‍ध नहीं कराई जाती, तब तक उनके बीच से बाल श्रम और बाल विवाह जैसी सामाजिक समस्‍याएं दूर नहीं की जा सकतीं। इसी के मद्देनजर 2018 में उन्होंने अपने गांव में एक स्‍कूल स्‍थापित करने की पहल की और और उन बच्‍चों को पढ़ाना-लिखाना शुरू किया, जिन्‍हें शिक्षकों के अभाव में गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा हासिल नहीं हो पाती है।

डायना अवार्ड मिलने पर अपनी खुशी साझा करते हुए नीरज कहते हैं, ‘‘इस अवार्ड ने मेरी जिम्‍मेदारी को और बढ़ा दिया है। मैं उन बच्‍चों को स्‍कूल में दाखिला दिलाने के काम में और तेजी लाऊंगा, जिनकी पढ़ाई बीच में ही रुक गई है। साथ ही अब मैं बाल मित्र ग्राम के बच्‍चों को भी शिक्षित करने पर अपना ध्‍यान केंद्रित करूंगा।’’ अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए वह कहते हैं, ‘‘नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित श्री कैलाश सत्‍यार्थी मेरे आदर्श हैं और उन्‍हीं के विचारों की रोशनी में मैं बच्चों को शिक्षित और अधिकार संपन्‍न बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहा हूं।’’

नीरज के व्यक्तित्व विकास और सामाजिक बदलाव की प्रेऱणा में नोबेल शांति पुरस्कार विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी और उनके द्वारा स्थापित संगठन की महत्वपूर्ण भूमिका है। बाल मित्र ग्राम श्री कैलाश सत्यार्थी की बच्चों के लिए खुशहाल और अनुकूल दुनिया बनाने की जमीनी पहल है। देश-दुनिया में ऐसे गांवों का निर्माण किया जा रहा है।

जानिए बाल मित्र के बारे में

बाल मित्र ग्राम का मतलब ऐसे गांवों से है जिसके 06-14 साल की उम्र के सभी बच्‍चे बाल मजदूरी से मुक्‍त हों और वे स्‍कूल जाते हों। वहां चुनी हुई बाल पंचायत हो और जिसका ग्राम पंचायत से तालमेल हो। बच्‍चों को गुणवत्‍तापूर्ण शिक्षा के साथ-साथ उनमें नेतृत्‍व की क्षमता के गुण भी विकसित किए जाते हों। बाल मित्र ग्राम के बच्‍चे पंचायतों के सहयोग से गांव की समस्‍याओं का समाधान करते हुए उसके विकास में अपना सहयोग भी देते हैं।

नीरज का गांव बाल मित्र ग्राम

नीरज का गांव भी बाल मित्र ग्राम है। 2013 में बाल मित्र ग्राम के युवा समूह का सदस्‍य बनते ही नीरज ने बाल श्रम के उन्‍मूलन और फिर उन बच्‍चों को स्‍कूलों में दाखिला दिलाने की दिशा में काम करना शुरू कर दिया था। स्कूली दिनों में ही वह तमिलनाडू जाकर अपने गांव से पलायन करके बाल मजदूरी करने वाले कुछ बच्चों को छुड़ा कर भी लाए और उनका स्कूल में दाखिला कराया। वह अपने गांव के कई सामाजिक-आर्थिक समस्‍याओं का समाधान भी ढूंढते हैं। जैसे, बाल विवाह रुकवाना, हैंडपंप लगवाना, उनकी मरम्‍मत करवाना, घरों में बिजली की सुविधाएं प्रदान करवाना, सरकारी योजनाओं के माध्‍यम से गैस कनेक्‍शन की सुविधाएं उपलब्‍ध करवाना आदि।

वह लोगों को शिक्षा के महत्व को समझाने के लिए रैलियों और अन्य अभियानों का भी आयोजन करते हैं। नतीजन, सरकारी स्कूलों में बच्चों के नामांकन की दर में बढ़ोतरी हुई है। नीरज से शिक्षा प्राप्‍त करने वाले बच्‍चे भी अब जागरूक हो गए हैं और वे भी अपने गांव में सकारात्मक बदलाव लाने की कोशिश कर रहे हैं। इस तरह से उन्होंने सत्यार्थी आंदोलन की अगली पीढ़ी भी तैयार कर दी है।

क्या है कैलाश सत्‍यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन

नोबेल शांति पुरस्‍कार विजेता श्री कैलाश सत्यार्थी द्वारा स्थापित ‘कैलाश सत्यार्थी चिल्‍ड्रेन्‍स फाउंडेशन’ बच्चों के शोषण और हिंसा के खिलाफ काम करने वाला एक वैश्विक संगठन है। फाउंडेशन अपने कार्यक्रमों, प्रत्‍यक्ष हस्‍तक्षेप, अनुसंधान, क्षमता निर्माण, जन-जागरुकता और व्यवहार परिवर्तन के जरिए बाल मित्र दुनिया के निर्माण की ओर सतत अग्रसर है। श्री सत्‍यार्थी के कार्यों और अनुभवों ने हजारों बच्‍चों और युवाओं को ‘बाल मित्र दुनिया’ के निर्माण के लिए प्रेरित और प्रोत्‍साहित किया है।

Source link

admin

Recent Posts

बड़ी खबर- Video Call और Meeting App के इस्तेमाल पर लग सकता है ISD चार्ज

ऑनलाइन वीडियो कॉल या मीटिंग ऐप पर लग सकता है ISD चार्ज टेलीकॉम कंपनियों ने कहा है कि अगर कस्टमर…

36 mins ago

फ़तेहाबाद: जमीन विवाद को लेकर सरपंच और पूर्व सरपंच के बीच झगड़ा, CCTV में कैद

जमीनी विवाद को लेकर भिड़ गए सरपंच और पूर्व सरपंच पुलिस (Police) ने माहौल खराब होते देख सुलह का रास्ता…

50 mins ago

अपात्र हैं तो जमा करा दें राशन कार्ड वरना कार्रवाई के लिए रहें तैयार

देहरादून के ज़िला पूर्ति कार्यालय में बाकायदा ड्राप बॉक्स रखवाया गया है, जिसमें गलत जानकारी देकर राशन कार्ड बनवाने वाले…

1 hour ago

MP by Election से पहले ताई-भाई और सांई को साधने मालवा के धुआंधार दौरे पर आ रहे हैं सिंधिया

सिंधिया हर नेता से उसके घर जाकर मुलाकात करेंगे. ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) फोन कर बीजेपी (bjp) नेताओं-कार्यकर्ताओं से कह…

3 hours ago

Rajasthan weather alert: अजमेर, भीलवाड़ा और राजसमंद में जबर्दस्त बारिश की चेतावनी, रेड अलर्ट जारी

मौसम विभाग ने आज प्रदेश के अलग-अलग हिस्सों के लिये रेड, ऑरेंज और येलो अलर्ट जारी किये हैं. राजस्थान में…

3 hours ago

Jammu kashmir news: हाई अलर्ट पर घाटी, कड़ी सुरक्षा के बीच मनाया जाएगा स्वतंत्रता दिवस

गोविंद चौहान, जम्मूजम्मू-कश्मीर में स्वतंत्रता दिवस को लेकर सुरक्षा व्यवस्था को कड़ा किया गया है। जमीन से लेकर आसमान तक…

4 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts