Categories: हरियाणा

डिप्टी सीएम से मिलने पहुंचे पीटीआई शिक्षकों ने किया प्रदर्शन, काबू करने के लिए पुलिस को करनी पड़ी धक्का-मुक्की

  • उचाना मंडी में डिप्टी सीएम का था कार्यक्रम, वहां प्रदर्शन करते हुए ज्ञापन देने पहुंचे थे पीटीआई
  • सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद हरियाणा में नौकरी से हटाए गए हैं 1983 पीटीआई

दैनिक भास्कर

Jun 20, 2020, 01:38 PM IST

जींद (उचाना). सुप्रीम कोर्ट द्वारा हटाए गए हरियाणा के 1983 पीटीआई लगातार प्रदेश में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वे कभी सीएम के सामने तो कभी अन्य नेताओं व मंत्रियों के सामने विरोध प्रदर्शन कर अपनी बात रख रहे हैं। ताकि सरकार उन्हें किसी तरह अडजस्ट कर सके। इसी कड़ी में शनिवार को जींद की उचाना मंडी में डिप्टी सीएम को ज्ञापन देने पहुंचे पीटीआई को काबू करने के लिए पुलिस को उनके साथ धक्का-मुक्की करनी पड़ी। पीटीआई शिक्षकों ने ताली और थाली बजाकर विरोध प्रदर्शन किया।

भारी संख्या में पुलिस टीम इन्हें काबू करने के लिए तैनात थी।

दोपहर करीब 12 बजे डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला का जींद की उचाना मंडी में कार्यक्रम था। उनके पहुंचने से पहले ही बड़ी संख्या में पीटीआई शिक्षक वहां पहुंच गए। उनके कार्यक्रम स्थल पर बड़ी संख्या में पुलिस भी तैनात थी, जब पीटीआई कार्यक्रम स्थल की दिशा में बढ़ने लगे तो पुलिस ने उनके साथ धक्का-मुक्की की और उन्हें डिप्टी सीएम के कार्यक्रम से कुछ दूरी पर बने मंडी के शेड के नीचे इकट्ठा कर दिया।

यहां उन्होंने नारेबाजी के साथ-साथ तालियां और थालियां बजाकर विरोध प्रदर्शन किया। इसके बाद डिप्टी सीएम कार्यक्रम में आए तो वे सीधे पीटीआई शिक्षकों से मिलने पहुंचे। उन्होंने उनका ज्ञापन लिया। इसके बाद ही डिप्टी सीएम अपने तय कार्यक्रम में पहुंचे।

डिप्टी सीएम जैसे ही उचाना मंडी पहुंचे वे कार्यक्रम में बाद में गए, पहले पीटीआई शिक्षकों से जाकर मिले।

ये है पीटीआई शिक्षकों का मामला
वर्ष 2010 में भूपेंद्र सिंह हुड्डा की सरकार में 1983 पीटीआई शिक्षक भर्ती किए गए थे। भर्ती के बाद कुछ लोगों ने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट में इसे चुनौती दी थी। हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान कहा गया था कि सैकड़ों चयनित उम्मीदवारों का शैक्षिक रिकॉर्ड बेहद खराब है। ऐसे में महज मौखिक परीक्षा के आधार पर नियुक्ति कर ली गई। आरोप लगा था कि 90 फीसदी मेधावी उम्मीदवार मौखिक परीक्षा में बुरी तरह असफल रहे। उन्हें 30 में से 10 नंबर भी नहीं आए। इसी के साथ यह भी आरोप लगा था कि इंटरव्यू के लिए तय 25 अंक को बदलकर 30 कर दिया गया। इन सबके मद्देनजर हाईकोर्ट ने पीटीआई भर्ती को रद्द कर दिया था। इसके बाद पीटीआई सुप्रीम कोर्ट चले गए थे। इसके बाद अब पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए हाईकोर्ट के फैसले को सहीं बताया था। अर्थात भर्ती को रद्द कर दिया था।

Source link

admin

Recent Posts

मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे का एक साथी कोरोना पॉजिटिव, आज सुबह फरीदाबाद से हुआ था गिरफ्तार

फरीदाबाद में होटल में रेड के बाद सीसीटीवी फुटेज वायरल हो रहा है. इसमें विकास दुबे के होने का शक…

36 mins ago

उत्तराखंड बोर्ड का बड़ा ऐलान, 10वीं-12वीं के छात्रों को बचे विषयों में औसत अंक देकर परीक्षाफल होगा घोषित

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने आदेश जारी कर दिया है. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण…

2 hours ago

जयपुर: 78 साल के बुजुर्ग ने अस्पताल की दूसरी मंजिल से कूद कर दी जान, हैरान करने वाली थी वजह

मरीज को कावंटिया अस्पताल से कोरोना संग्दिध मानते हुए आरयूएचएस लाया गया था. (सांकेतिक फोटो) जयपुर (Jaipur) के कोरोना उपचार…

2 hours ago

शोध में खुलासा-डिप्रेशन कम करने में प्रोबायोटिक हो सकता है मददगार

प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपका पाचन और प्रतिरक्षा को बेहतर होता है. प्रोबायोटिक्स (Probiotic) खाद्य पदार्थ वह…

2 hours ago

चित्रकूट: मजदूरी के बदले लड़कियों के साथ यौन शोषण की रिपोर्ट, डीएम ने किया खंडन

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में एक खबर ने पूरे प्रदेश को हिला कर रख दिया इस खबर में मजदूरी के…

3 hours ago

प्राइवेट स्कूलों की फीस पर DEO रखेंगे नजर, HC के दखल के बाद शासन ने दिया आदेश

नैनीताल हाईकोर्ट द्वारा सरकार को इस पूरे मामले को लेकर नोडल अधिकारी नियुक्त करने के निर्देश दिए गए थे. जिसके…

3 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts