डेढ़ लाख पुलिसकर्मियों के लिए आया फरमान, छुट्टी के दिन जिला मुख्यायल नहीं छोड़ेंगे जवान

मध्य प्रदेश में आईपीएस से लेकर कॉन्स्टेबल रैंक के अधिकारी कर्मचारियों की डेढ़ लाख की फोर्स है.

पुलिस मुख्यालय (Police Headquarters) ने सभी एसपी को जो पत्र लिखा है, जिसमें किसी भी पुलिसकर्मी को एक ऑफिस से दूसरे पुलिस ऑफिस में नहीं जाने की सलाह दी गई है.

भोपाल. एक तरफ शिवराज सरकार (Shivraj Government) ने प्रदेश में आने जाने के लिए हर नागरिक को रियायत दी है, तो वहीं पुलिस मुख्यालय ने अपने महकमे पर शिकंजा कसा है. मुख्यालय ने एक फरमान जारी किया है जिसके तहत कोई भी पुलिसकर्मी (Policeman) छुट्टी के दौरान अपने घर नहीं जा सकेगा. यानी जिस जिले में वे नौकरी कर रहा है उस जिले को छोड़ नहीं सकेगा. पुलिस मुख्यालय ने अपने आदेश में यह भी लिखा है कि यदि कोई इमरजेंसी है तो इसके लिए आईजी से परमिशन लेनी पड़ेगी. कुल मिलाकर प्रदेश की जनता को तमाम रियायत है, लेकिन पुलिसकर्मियों के लिए यह रियायत नहीं दी गई है. जबकि त्यौहार के चलते कई पुलिसकर्मियों ने घर जाने के लिए अवकाश ले रखा था. अब उन्हें अपने जिलों में ही रुकना पड़ेगा. इसके पीछे पुलिस मुख्यालय (Police Headquarters) ने कारण बताया है कि पुलिसकर्मियों के इधर उधर जाने से संक्रमण फैलता है.

मध्य प्रदेश में आईपीएस से लेकर कॉन्स्टेबल रैंक के अधिकारी कर्मचारियों की डेढ़ लाख की फोर्स है. पुलिस मुख्यालय ने अपने पत्र में लिखा है कि मुख्यालय के द्वारा जारी की गई. गाइडलाइन का पुलिसकर्मी पालन नहीं कर रहे हैं. साथ ही वह अपने घर जाते हैं उस समय भी नियमों का पालन नहीं करते हैं. ऐसे में संक्रमण फैलने का खतरा रहता है. पुलिस के कार्य स्थल पर ही नहीं बल्कि उनके परिवार में भी संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है. ऐसे में मुख्यालय ने हिदायत दी है कि सभी पुलिसकर्मी गाइडलाइन का पालन करें.

सभी एसपी को लिखा पत्र
पुलिस मुख्यालय ने हाल ही में सभी जिलों के एसपी को पत्र लिखकर गाइडलाइन का पालन कराने के लिए कहा है. मुख्यालय ने कहा है कि जिले के एसपी की जिम्मेदारी रहेगी कि वह पुलिसकर्मियों को मुख्यालय के द्वारा जारी की गई तमाम गाइडलाइन का पालन करायें. मध्य प्रदेश पुलिस के कई जवानों ने इसलिए छुट्टी ले रखी थी ताकि वह त्यौहार पर अपने घर जा सकें. लेकिन मुख्यालय के इस आदेश के बाद अब उनकी छुट्टी उसी जिले में गुजरेगी, जहां पर वह पदस्थ हैं. हालांकि,  मुख्यालय का यह भी कहना है कि किसी पुलिस जवान को मेडिकल इमरजेंसी है या फिर दूसरा जरूरी काम है तो वह आवेदन आईजी के पास लगाएगा और आईजी जब मंजूरी देगा तभी वह उस मंजूरी के तहत दूसरे जिले में जा सकेगा.ऑनलाइन काम करने की दी सलाह

पुलिस मुख्यालय ने सभी एसपी को जो पत्र लिखा है, जिसमें किसी भी पुलिसकर्मी को एक ऑफिस से दूसरे पुलिस ऑफिस में नहीं जाने की सलाह दी गई है. साथ ही जितने भी पुलिस के कामकाज है सभी कामकाज ऑनलाइन हो. पुलिस में जो डाक व्यवस्था है उसे बंद कर ई-मेल का सहारा लिया जाए. ईमेल के जरिए तमाम पत्राचार किए जाए. कम से कम दस्तावेजों का इस्तेमाल किया जाए. मुख्यालय ने यह भी कहा है कि कोई भी पुलिसकर्मी किसी भी काम के लिए दूसरे जिले में न जाए. ज्यादा से ज्यादा डिजिटल प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल किया जाए.



Source link

admin

Recent Posts

उत्तराखंड: लिपुलेख के पास तिंकर तक सड़क बनाने में जुटी नेपाली सेना

उत्तराखंड बॉर्डर पर नेपाली सेना सड़क बनाने में जुटी है. नेपाली सेना (Nepali Army) के 53 जवान खलंगा पहुंच गए…

32 mins ago

Rajasthan Crisis : कांग्रेस-बीजेपी दोनों के लिए परेशानी बन सकता है राजे गुट

राजस्थान की पूर्व CM वसुंधरा राजे ने दिल्ली में जेपी नड्डा से मुलाकात की. (फाइल फोटो) बड़ा दबाव राजे गुट…

2 hours ago

नोएडा: कोविद -19 टैली 5,868 तक पहुंच गई, सक्रिय मामलों में वृद्धि 937 | नोएडा समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

NOIDA: उत्तर प्रदेश का गौतम बौद्ध नगर आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि शनिवार को 65 ताजा कोविद -19…

2 hours ago

राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच सक्रिय हुईं वसुंधरा, नड्डा के बाद राजनाथ सिंह से मिलीं

राजस्थान की पूर्व CM वसुंधरा राजे ने राजनाथ सिंह से मुलाकात की है (फाइल फोटो) हालांकि इन मुलाकातों के दौरान…

2 hours ago

हिमाचल: मंडी में एक साथ 14 कोरोना मरीज मिलने से हड़कंप, 6 बाहरी मजदूर

मंडी में कोरोना के 14 नये केस सामने आए (सांकेतिक तस्वीर) डीसी ऋग्वेद ठाकुर ने 14 नए मामलों की पुष्टि…

2 hours ago

अयोध्या में भूमि पूजन स्थल की रायसेन के फूलों ने बढ़ाई थी शोभा, भगवान राम से जिले का है खास कनेक्शन

5 अगस्त को पीएम मोदी के हाथों अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर भूमि पूजन संपन्न हुआ पॉलीफार्म के…

3 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts