Categories: बिज़नेस

दिल्ली, बेंगलुरु, हैदराबाद के थोक विमानों में टमाटर की कीमत 3 साल के निचले स्तर पर, 4-10 रुपए प्रति किलो के भाव में रही


  • देशव्यापी लॉकडाउन में मांग से अधिक आपूर्ति होने से गिरी टमाटर की कीमत
  • तेजी से सड़ने वाली फसल के लिए अच्छी परिचालन सुविधा न होने से भी कीमत गिरी

दैनिक भास्कर

22 मई, 2020, 08:19 बजे IST

नई दिल्ली। दिल्ली, बैंगलोर और हैदराबाद की थोक मंडियों में टमाटर की कीमत गिरकर 3 साल के निचले स्तर पर आ गई है। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार इन मंडियों में यह फसल शुक्रवार को 4-10 रुपए प्रति किग्राग्राम के भाव पर बिका है। दिल्ली के आजादपुर बुलेट मंडी में पिछले साल 22 मई को टॉम का भाव 14.30 रुपए प्रति किलोग्राम था। वहीं, हैदराबाद व बेंगलुरु में इसकी कीमत 30 रुपए थी।

लॉकडाउन में मांग से अधिक आपूर्ति होने से गिरी टमाटर की कीमत
विशेषज्ञों के मुताबिक लॉकडाउन के बीच अधिक आपूर्ति और कम मांग के कारण टॉम की कीमत गिर गई है। साथ ही तेजी से सड़ने वाले सब्जी को सुगम इंजन सुविधा नहीं मिल पाने के कारण भी इसकी कीमत में तेजी से गिरावट आई है। खाद्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार आजादपुर मंडी में वर्तमान आदर्श भाव लगभग 440 रुपए प्रति क्विंटल है। पिछले साल यह भाव 1,258 रुपए प्रति क्विंटल था। दिल्ली में हरियाणा, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान से टमाटर की आपूर्ति होती है।

हैदराबाद के बोवनपल्ली थोक मंडी में टमाटर की कीमत शुक्रवार को 5 रुपये प्रति किलोग्राम थी
हैदराबाद के बोवनपल्ली थोक मंडी में टमाटर की कीमत शुक्रवार को लगभग 5 रुपए प्रति किलोग्राम रही। एक साल पहले यह 34 रुपए था। इसी तरह से बेंगलुरु में टमाटर की थोक कीमत शुक्रवार को 10 रुपए रिपिलोग्राम हो रही है। जो एक साल पहले 30 रुपए पर था।

40 जिलों के टॉम क्लस्टर में टॉम की कीमत 3 साल के मौसमी औसत के नीचे
बाजार लिंकेज देने के लिए खाद्य विभाग मंत्रालय 52 जिलों को ट्र्रैक करता है। इनमें से 40 में टॉम पैदा करने वाले क्षेत्रों में टॉम की कीमत 3 साल के मौसमी औसत के नीचे चल रही है। बाजार से सीधा लिस्टिंग के लिए आश्रय लिया गया 12 क्लस्टर्स में भी टॉम की कीमत 3 साल के औसत से नीचे चल रही है। उदाहरण के लिए कर्नाटक के कोला जिले के 5 टमाटर क्लस्टर में गुणवत्ता के आधार पर टमाटर की कीमत 3-8 रुपए प्रति किलोग्राम पर चल रही है। एक साल पहले यह कीमत 14-35 रुपये प्रति किलोग्राम थी।

आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में टमाटर की पैदावार देश में सबसे ज्यादा होती है
आंध्र प्रदेश के चित्तूर जिले के 5 क्लस्टर्स और ओडशा के दो क्लस्टर्स में भी कीमत में इसी प्रकार की गिरावट आई है। आंध्र प्रदेश और कर्नाटक में टमाटर की पैदावार देश में सबसे ज्यादा होती है। इस साल दोनों राज्यों में कुल 42 लाख टन टमाटर पैदा होने की उम्मीद है। देश में टॉम की सालाना मांग 111 लाखटन की है। इसकी आपूर्ति घरेलू उत्पादन से ही हो जाती है। मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक 2019-20 फसल सत्र (जुलाई-जून) में देश में 193.28 लाख टन टमाटर का उत्पादन होने का अनुमान है।





Source link

admin

Recent Posts

आरोप: जय श्रीराम कहने से किया इंकार, तो युवक पर हुआ चाकू से हमला

(फाइल फोटो) बेहद संगीन आरोप लगाने वाले इजराइल (Israel) को मोतिहारी जिला पुलिस (Motihari District Police) ने इलाज के लिए…

17 mins ago

लुधियाना में बर्तन धोने के विवाद में पिता ने बेटे की हत्या की, फिर छत पर प्लास्टिक की बोरियां डालकर शव को जलाया

लुधियाना के टिब्बा रोड इलाके की घटना, पुलिस ने आरोपी पिता को गिरफ्तार कियाशव काफी हद तक जल गया था,…

22 mins ago

चंडीगढ़ में कोविड-19 के तीन नये मामले आए

चंडीगढ़, छह जून (भाषा) केंद्रशासित प्रदेश चंडीगढ़ में शनिवार को तीन लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि…

32 mins ago

छत्‍तीसगढ़: एंटी नक्‍सल ऑपरेशन में तैनात BSF जवान ने खुद को गोलीमार की खुदकुशी

सोनीपत (हरियाणा) निवासी हेड कांस्‍टेबल सुरेश कुमार की तैनाती बीएसएफ की 157 बटालियन में थी (फाइल फोटो) सर्च ऑपरेशन (Search…

2 hours ago

महाराष्ट्र में 82 हजार के पार पहुंचा कोरोना, बीते 24 घंटे में आए 2,739 नए मामले

महाराष्ट्र (Coronavirus in Maharashtra) में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 82 हजार के पार पहुंच गई। बीते 24 घंटे…

2 hours ago

अकाल तख्त के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत ने खालिस्तान की मांग को जायज बता बवाल को जन्म दिया, बोले-केंद्र दे तो इनकार नहीं

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर मीडिया से बात कर रहे थे ज्ञानी हरप्रीत सिंह, एसजीपीसी अध्यक्ष गोविंद सिंह लौंगोवाल…

2 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts