धार जिला अस्पताल में एक दिन में 4 नवजात की मौत, डॉक्टरों बोले- हमारी कोई गलती नहीं

धार जिला अस्पताल में स्पेशल केयर न्यू बॉर्न यूनिट (SCNU) है. इसमें गंभीर रूप से बीमार बच्चों का इलाज किया जाता है. यह यूनिट यूनिसेफ (UNICEF) की मदद से चलती है.

धार जिला अस्पताल में स्पेशल केयर न्यू बॉर्न यूनिट (SCNU) है. इसमें गंभीर रूप से बीमार बच्चों का इलाज किया जाता है. यह यूनिट यूनिसेफ (UNICEF) की मदद से चलती है.

धार.जिला अस्पताल में एक ही दिन में चार नवजात (Newborn babies) की मौत हो गयी. इससे पूरे शहर और अस्पताल में हड़कंप मचा हुआ है. मृतक बच्चों के परिवार डॉक्टरों (Doctors) पर गंभीर लापरवाही बरतने का आरोप लगा रहे हैं, लेकिन अस्पताल प्रशासन का कहना है कि बच्चे गंभीर रूप से बीमार थे. सभी की अलग-अलग कारणों से स्वाभाविक मौत हुई है.

धार ज़िला अस्पताल में एक ही दिन में 4 बच्चों की मौत हुई तो सब सकते में आ गए. दिन गुजरते-गुजरते जब ये खबर मृतक बच्चों के परिवार को लगी तो देर रात उन्होंने हंगामा कर दिया. उन्होंने जिला अस्पताल के डॉक्टरों और स्टाफ पर इलाज में लापरवाही का गंभीर आरोप लगाया. इसके बाद यह पूरा मामला मीडिया के सामने आया. अब जिला अस्पताल प्रबंधन कह रहा है कि अलग अलग बीमारियों की वजह से सभी बच्चों की स्वभाविक मौत हुई है.

SCNU में भर्ती थे बच्चेजिला अस्पताल में स्पेशल केयर न्यू बॉर्न यूनिट है. इसमें गंभीर रूप से बीमार बच्चों का इलाज किया जाता है. यह यूनिट यूनिसेफ की मदद से चलती है. इसमें काफी अच्छी चिकित्सा सुविधा है. इसके बावजूद यहां भर्ती चार नवजात बच्चों की इलाज के दौरान एक ही दिन में मौत हुई तो सबके कान खड़े हो गए.

ये भी पढ़ें-MP में आज का मौसम: 4 संभागों में भारी बारिश की चेतावनी, भोपाल में टूटा रिकॉर्ड

MP Rajya Sabha Election: सपा विधायक राजेश शुक्ला को BJP के पक्ष में वोट डालना पड़ा महंगा, पार्टी ने किया निष्कासित

सुबह से शुरू हुआ मौत का सिलसिला
धार जिला अस्पताल के एससीएनयू में नवजात बच्चों की मौत का सिलसिला शुक्रवार सुबह से शुरू हुआ. देर रात तक ये आंकड़ा बढ़कर 4 हो गया. उन्हीं में से एक मृतक बच्चे के पिता धीरज ने आरोप लगाया कि उसके बच्चे की मौत डाक्टरों और नर्सों की लापरवाही के कारण हुई है .

अस्पताल प्रशासन का बयान
धार जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. जेपीएस ठाकुर और SNCU में ड्यूटी डॉक्टर राशिका का कहना है कि चारों बच्चों की स्‍वभाविक मौत हुई है. चारों बच्चे गंभीर हालत में थे और चारों की अलग-अलग समय और अलग-अलग बीमारियों से मौत हुई है. एक बच्चे को निमोनिया से, दूसरे की फेफड़े में दूध अटकने से मौत हुई. जबकि बाकी दो बच्चे बेहद कमज़ोर पैदा हुए थे. जन्म के समय उनका वज़न महज 800 ग्राम था.


First published: June 20, 2020, 9:04 AM IST



Source link

admin

Recent Posts

हनीट्रैप: रेप के झूठे केस में फंसाकर LIC एजेंट से मांगे 1 लाख रुपए, महिला समेत दो गिरफ्तार

पुलिस गिरफ्त में आरोपी महिला आरोपी महिला एलआईसी एजेंट को रेप के झूठे केस में फंसाकर 1 लाख रुपये की…

35 mins ago

भोपाल में बदमाशों की शामत, पोर्टल पकड़ रहा है अपराधी, ऑन द स्पॉट फैसला

भोपाल पुलिस पोर्टल के ज़रिए अपराधियों को कर रही है गिरफ्तार पुलिस (police) ने इस सिस्टम व्हीकल डिटेक्शन पोर्टल नाम…

1 hour ago

WhatsApp Web के नए फीचर से बदल जाएगा चैट का लुक, ऐसे आसानी से करें ON

WhatsApp Web पर डार्क मोड एक्टिवेट करना आसान है. अगर आप भी अपने वॉट्सऐप वेब पर नई डार्क थीम इस्तेमाल…

2 hours ago

Jaipur: सस्पेंस से उठा पर्दा, पूर्व सीएस डीबी गुप्ता होंगे सीएम के सलाहकार, आनंदी बनीं अलवर कलक्टर

2 जुलाई को जारी तबादला सूची में डीबी गुप्ता को मुख्य सचिव के पद से हटा दिया गया था. राज्य…

2 hours ago

सड़कों पर बेखौफ घूमते दिखे जालंधरवासी, पुलिस ने दिनभर में 306 के चालान काटे

पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने बताया कि अब तक 13,928 लोगों के चालान काटकर 63.09 लाख रुपए जुर्माना वसूला…

2 hours ago

Benefits Of Flax Seeds: औषधीय गुणों से भरपूर हैं अलसी के बीज, मोटापा घटाने की हैं रामबाण दवा

अलसी के बीज से होने वाले फायदों को सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. अलसी के बीज (Flax Seeds) कई तरह…

3 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts