Categories: हरियाणा

पंचायत का तुगलकी फरमान, 15 साल तक विधवा को ससुराल में न घुसने का फैसला सुनाया

पंचायत का फैसला सुन विधवा परेशान

सरपंच (Sarpanch) से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पंचायती तौर पर यह फैसला हुआ है. विधवा (Widow) महिला 15 साल तक अपने मायके में रहेगी और ससुराल में नहीं आएगी.

फतेहाबाद. जिले के भूना क्षेत्र की एक ग्राम पंचायत ने तुगलकी फरमान जारी करते हुए गांव की एक विधवा महिला को 15 साल तक गांव में घुसने पर प्रतिबंध (restriction) लगाने का फैसला सुनाया है. फैसले के मुताबिक विधवा महिला 15 साल तक अपने ससुराल में नहीं आएगी और मायके में ही अपने माता-पिता के पास रहेगी. इस पंचायती फरमान से पीड़ित विधवा (Widow) महिला परेशान है और अपने पिता के घर मायके में रहते हुए खुद को असहज महसूस कर रही है, क्योंकि फैसला पंचायती तौर पर हुआ है, इसलिए उसके साथ कानूनी तौर पर इस फैसले के खिलाफ जाने की लड़ाई लड़ने के लिए कोई सहारा नहीं है.

हालांकि पीड़िता चाहती है कि वह अपने ससुराल में रहे और अपने बच्चों की परवरिश अपने पति की विरासत पर रहकर करे. पीड़िता के 2 बच्चे हैं. मामले के मुताबिक पीड़िता ने बताया कि उसके पति की मौत हो गई थी और मौत के लिए शुरुआती तौर पर उसे जिम्मेदार ठहराया गया था. लेकिन बाद में जांच पड़ताल में साफ हो गया कि पति की मौत को लेकर उस पर किया गया शक झूठा था. इसके बाद ससुरालजनों ने प्रॉपर्टी को लेकर उसके साथ विवाद किया और बाद में पंचायती तौर पर फैसला हुआ कि विधवा महिला के पति के हिस्से की जमीन उसके बच्चों को दी जाएगी.

पीड़िता ने इस पंचायती फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक पंचायत मेरी जिंदगी का फैसला करने वाली कौन होती है? महिला ने पंचायत के लोगों से सवाल किया है कि शादी के बाद क्या कोई महिला अपने पिता के घर रहते हुए अच्छी लगती है? पीड़िता चाहती है कि वह अपने ससुराल में रहे और अपने बच्चों के साथ रहकर अपनी जिंदगी बसर करे.

पंचायती तौर पर हुआ फैसलाइस पूरे मामले पर पंचायती फरमान जारी करने वाले गांव ढाणी भोजराज के सरपंच से बात की गई तो उन्होंने कहा कि पंचायती तौर पर यह फैसला हुआ है. विधवा महिला 15 साल तक अपने मायके में रहेगी और ससुराल में नहीं आएगी.

सरपंच ने कही ये बात

सरपंच ने बताया कि महिला का अपने ससुराल जनों से पति की मौत के बाद कुछ विवाद हो गया था जिसके बाद गांव में पंचायत हुई और पंचायती तौर पर यह फैसला हुआ कि मृतक व्यक्ति के बच्चों को उसके हिस्से की जमीन दी जाए. मृतक की पत्नी यहां अपने ससुराल में न रहकर अपने मायके में पिता के पास रहे. हालांकि इस तरह के फरमान जारी करने को लेकर जब खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी (बीडीपीओ) से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उनके क्षेत्र में ग्राम पंचायत ने इस तरह का फैसला लिया है तो यह कानूनी रूप से जायज नहीं है.

ये भी पढ़ें- कोरोना संक्रमित मरीज ने अस्पताल के बाथरूम में फंदा लगा की आत्महत्या

फैसला गलत और कानून के खिलाफ

खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी महेंद्र सिंह नेहरा ने बताया कि ग्राम पंचायत के लेटर पैड पर लिखित तौर पर इस तरह का फैसला जारी किया है जो कि पूरी तरह से गलत है और कानून के खिलाफ है. खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी ने कहा कि मामले को लेकर उच्च अधिकारियों से बात की जाएगी और उनके आदेशानुसार सरपंच व जिम्मेदार लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी. इसके अलावा यदि महिला अपने ससुराल में रहना चाहती है या अपनी मर्जी से जहां भी रहना चाहती है उसको लेकर पुलिस के पास अपनी शिकायत दर्ज करवा सकती है.


First published: June 19, 2020, 8:19 PM IST



Source link

admin

Recent Posts

DLF ने नोएडा मॉल की छत के छोटे हिस्से को उतारा नोएडा समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

नई दिल्ली: रियल्टी के प्रमुख डीएलएफ ने बुधवार को कहा कि उसने नोएडा में अपने शॉपिंग मॉल की छत का…

14 mins ago

अकालियों ने पंजाब सरकार के खिलाफ शहर-देहात में दिए धरने, रूरल पुलिस ने 1000 वर्करों पर केस किए, सिटी पुलिस ने नहीं

कोरोनाकाल में एपेडेमिक एक्ट, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट और आईपीसी की धारा-188 व 270 के इस्तेमाल पर खाकी का डबल स्टैंडर्डशहर…

35 mins ago

मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे का एक साथी कोरोना पॉजिटिव, आज सुबह फरीदाबाद से हुआ था गिरफ्तार

फरीदाबाद में होटल में रेड के बाद सीसीटीवी फुटेज वायरल हो रहा है. इसमें विकास दुबे के होने का शक…

2 hours ago

उत्तराखंड बोर्ड का बड़ा ऐलान, 10वीं-12वीं के छात्रों को बचे विषयों में औसत अंक देकर परीक्षाफल होगा घोषित

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने आदेश जारी कर दिया है. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण…

3 hours ago

जयपुर: 78 साल के बुजुर्ग ने अस्पताल की दूसरी मंजिल से कूद कर दी जान, हैरान करने वाली थी वजह

मरीज को कावंटिया अस्पताल से कोरोना संग्दिध मानते हुए आरयूएचएस लाया गया था. (सांकेतिक फोटो) जयपुर (Jaipur) के कोरोना उपचार…

4 hours ago

शोध में खुलासा-डिप्रेशन कम करने में प्रोबायोटिक हो सकता है मददगार

प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपका पाचन और प्रतिरक्षा को बेहतर होता है. प्रोबायोटिक्स (Probiotic) खाद्य पदार्थ वह…

4 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts