भारत सीमा पर नेपाल ने बनाई एक और चेक पोस्ट… लिपुलेख सड़क उद्घाटने के बाद बनी चौथी BOP


रोलघाट में बनाई गई बीओपी की मदद से नेपाली जवान भारत के पिथौरागढ़ और चम्पावत दोनों जिलों के बॉर्डर पर निगरानी कर सकते हैं.

नेपाल सरकार ने 15 नाली जमीन भी अधिगृहित कर ली है जिस पर जवानों के रहने के लिए भवन, बैरक और ऑफिस बनाए जाएंगे.

पिथौरागढ़. लिपुलेख सड़क के उद्घाटन के साथ ही नेपाल का रुख भारत के प्रति आक्रामक हो गया था और अब नेपाली राजनीति में लगातार जारी उथल-पुथल के बावजूद नेपाल अपने रुख पर कायम है. दोनों मुल्कों के बीच बदले हालात में अब नेपाल ने भारत से सटे खुले बॉर्डर पर अपना सुरक्षा तंत्र मजबूत करने की कोशिशें तेज कर दी हैं. नेपाल ने पंचेश्वर से सटे रोलघाट में सशस्त्र सीमा प्रहरी बल की एक नई चेक पोस्ट बना ली है. लिपुलेख सड़क बनने के बाद नेपाल ने सीमा पर चौथी बीओपी खोली है. इससे पहले नेपाल छांगरू, खलंगा, झूलाघाट में भी बीओपी बना चुका है.

नया नक्शा

बता दें कि लिपुलेख सड़क के उद्घाटन के साथ ही नेपाल ने भारत पर निशाना साधना तेज कर दिया था. नेपाल का कहना है कि चीन सीमा को जोड़ने वाली लिपुलेख सड़क गुंजी से ऊपरी इलाके में भारत ने उसकी जमीन पर बनाई है जिसके बाद दोनों मुल्कों के बीच सीमा विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है.

स्थिति इतनी ख़राब हो चुकी है कि नेपाल ने पिथौरागढ़ के लिपुलेख, लिम्पियाधूरा और कालापानी को अपने नए राजनीतिक नक्शे में शामिल कर लिया है.तो तस्करी रोकना है उद्देश्य!

रोलघाट में बनाई गई बीओपी की मदद से नेपाली जवान भारत के पिथौरागढ़ और चम्पावत दोनों जिलों के बॉर्डर पर निगरानी कर सकते हैं. इस बीओपी में एक इंस्पेक्टर सहित कुल 35 जवान हर वक्त तैनात रहेंगे. रोलघाट की रोलघाट की बीओपी का उद्घाटन नेपाल की सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के महानिरीक्षक हरिशंकर बूढ़ाथोकी ने किया.

हालांकि उद्घाटन के मौके पर बल के महानिरीक्षक ने बीओपी का उद्देश्य पंचेश्वर में प्रस्तावित दोनों देशों के बीच जल विद्युत परियोजना की सुरक्षा से साथ ही बॉर्डर इलाकों में होने वाली तस्करी को रोकना बताया.

ज़मीन अधिगृहित

सशस्त्र सीमा प्रहरी बल के डीएसपी अमित सिंह का कहना है कि पंचेश्वर के इलाके में नेपाल की बीओपी स्थापित होने के बाद काली नदी के किनारे नेपाल की सुरक्षा बलों की हर वक्त गश्त जारी रहेगी.

इस बीओपी के लिए नेपाल सरकार ने 15 नाली जमीन भी अधिगृहित कर ली है. इसी जमीन पर जल्द ही जवानों के रहने के लिए भवनों का निर्माण किया जाएगा. साथ ही बैरक और ऑफिस भी बनाए जाएंगे.

First published: July 1, 2020, 5:25 PM IST





Source link

admin

Recent Posts

तेजी से कम होगा वजन, बस इन 6 सब्जियों के जूस का करें सेवन

मोटापा (Obesity) आज एक गंभीर समस्या है. यह कई गंभीर बीमारियों का कारण बनता है जो कभी-कभी घातक भी हो…

11 mins ago

दिल्ली की कोविद यात्रा: 165 दिनों में पहले मामले से लेकर 1.5 लाख तक | दिल्ली समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

NEW DELHI: 2 मार्च को पहला मामला सामने आने के 165 दिनों के बाद, दिल्ली में शुक्रवार को टैली ने…

1 hour ago

Independence Day Celebration in Jharkhand: मोरहाबादी मैदान में हेमंत सोरेन ने फहराया तिरंगा, कोरोना योद्धाओं का किया सम्मानित

राष्ट्र आज अपना 74वां स्वतंत्रता दिवस (74th Independence Day) मना रहा है। इस मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान…

2 hours ago

करीब पांच महीने तक निलंबित रहने के बाद रविवार को पुन: आरंभ होगी वैष्णो देवी यात्रा

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।भाषा | Updated: 15…

3 hours ago

Jharkhand News: गलवान घाटी में शहीद कुंदन ओझा की पत्नी को सरकार ने सौंपा 10 लाख का चेक

साहिबगंज/रांचीलद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हिंसक झड़प में शहीद हुए साहिबगंज के कुंदन ओझा की पत्नी…

5 hours ago

सपा राज में आजम खान की भैंसे ढूंढने वाली पुलिस अब भाजपा मंत्री की मछलियां खोजने में जुटी!

भाजपा मंत्री के तालाब से 30 हजार मछलियां चोरी उत्तराखंड सरकार (Government of Uttarakhand) की मंत्री रेखा आर्य (Minister Rekha…

6 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts