मुंबई: 19 मंजिला फ्लैट्स को डिवेलपर ने बना दिया क्वारंटीन सेंटर, किया गया सम्मानित

सराही गई बिल्डर की पहल

मुंबई

आपदा के वक्त हर कोई कोरोना (Coronavirus Updates India) से निपटने के लिए अपने स्तर पर हर संभव कोशिश कर रहा है। ऐसे में मुंबई के एक बिल्डर (Builder in Mumbai) ने अनोखी मिसाल पेश की है। मुंबई शहर के मलाड इलाके में इन दिनों कोरोना (Corona in Maharashtra) का प्रभाव बढ़ गया है। यहां मरीजों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, पालिका के आंकड़ों के अनुसार अगले 17 दिनों में इस इलाके में कोरोना के मरीज की संख्या दोगुनी होने की आशंका है। ऐसे में श्रीजी शरण डिवेलपर्स के मालिक मेहुल संघवी ने स्थानीय सांसद गोपाल शेट्टी के साथ मिलकर एक अनोखी पहल की है।

मलाड एसवी रोड पर स्थित श्रीजी पैराडाइस नाम की इमारत को महानगरपालिका को सौंप दिया है। यह इमारत 19 मंजिला है, जिसमें 130 फ्लैट्स हैं। यह बिल्डिंग हाल-फिलहाल में बनकर तैयार हुई है। इस बिल्डिंग को ऑक्यूपेशन सर्टिफिकेट और सरकार की वर्तमान इजाजत मिल चुकी है, जिससे वह उनके मालिकों को सौंपी जा सके। हालांकि, ऐसा न करते हुए बिल्डर ने किराएदारों और खरीदारों को अपनी जेब से किराए के पैसे दिए और इस इमारत को महानगरपालिका को सौंप दिया। बिल्डर की ओर से यह महत्वपूर्ण कदम उठाए जाने पर मुंबई महानगरपालिका के अधिकारियों ने उन्हें सर्टिफिकेट देकर सम्मानित किया। फिलहाल, इस इमारत में 300 कोरोना मरीज भर्ती हुए हैं। इनका इलाज चल रहा है।

​पहले जानें कहां हुई थी रिसर्च

  • कोरोना वायरस के संक्रमण का सबसे बुरा असर इस समय अमेरिका झेल रहा है और यही वजह है कि वह इस वायरस का तोड़ खोजने के लिए हर संभव कोशिश कर रहा है। इसी कड़ी में जब वहां के डॉक्टरों ने कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर यह जानना चाहा कि यह वायरस कितनी दूर तक फैल सकता है तो उन्होंने इस बारे में रिसर्च शुरू की। अमेरिका में शुरू हुई इस रिसर्च में विशेष डॉक्टरों की टीम लगी हुई थी और उन्होंने इस पर गहन अध्ययन किया। उसके बाद जो नतीजे आए वह सोशल डिस्टेंसिंग के लिए बनाई गई दूरी पर चिंता जाहिर करने वाले थे।

  • कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने की दूरी का सही पता लगाने के लिए डॉक्टरों की टीम के द्वारा बेहतरीन लेजर टेक्निक और कैमरे का इस्तेमाल किया गया। रिसर्च में ऐसे लोगों को शामिल किया गया जिनको खांसने और छींकने के लक्षण थे। उसके बाद इन लोगों पर लंबे समय तक रिसर्च की गई और देखा किया कि जब यह लोग खांसते और छींकते हैं तो इनके मुंह से निकली ड्रॉपलेट्स जिनमें वायरस भी मौजूद हो सकते हैं वह केवल एक या 2 मीटर की दूरी तक नहीं बल्कि आगे तक भी जा सकते हैं।

  • कोरोना वायरस के संक्रमण पर जारी कि गई नई रिसर्च में यह बताया गया है कि यह वायरस करीब 8 मीटर की दूरी तक जा सकता है। ऐसे में आपको मास्क पहनने और उसके इस्तेमाल के साथ-साथ कई अन्य बातों पर भी सोचना चाहिए। इसके बारे में विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से कब तक नई गाइडलाइन जारी की जाएगी, यह कहना अभी मुश्किल है, लेकिन एहतियात के तौर पर आप कुछ हद तक सावधानी जरूर बरत सकते हैं। यह भी पढ़ें : इन वर्कआउट से घर पर बनेगी बॉडी

  • फिलहाल अगर रिपोर्ट की मानें तो आपको ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है बस आप कुछ सामान्य-सी बातों पर ध्यान दे सकते हैं। इसके लिए आप सावधानी के तौर पर मास्क पहनने के अलावा खांसने और छींकने वाले लोगों से ज्यादा से ज्यादा दूरी बना कर रखें। एक बात का और ध्यान दें कि आप खुद भी ऐसे लक्षणों से पीड़ित हों तो लॉकडाउन में सब्जी और दूध लेने भी बाहर न निकलें और जरूरत के हिसाब से चेक-अप करवाएं।

  • कोविड-19 के संक्रमण से बचे रहने के लिए बाकी अन्य सभी दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन करें। अपने हाथों को धोना, किसी भी खांसने और छींकने वाले व्यक्ति के संपर्क में आने से बचना, माउथ मास्क को पहने रहना, सर्दी-खांसी के लक्षण दिखने पर खुद को घर में ही रखना जैसी बातों का गंभीरतापूर्वक पालन करें। यह भी पढ़ें : स्मोकिंग करने वाले कोरोना से रहें सावधान

‘…तो मैंने उसे तुरंत मान लिया’

बिल्डर मेहुल संघवी ने बताया, ‘देश इस वक्त एक मुश्किल दौर से गुजर रहा है। ऐसे में हमारी जिम्मेदारी है कि जितना संभव हो सके उतना समाज के काम आएं। जब सांसद गोपाल शेट्टी ने मुझे सुझाव दिया कि इस इमारत का सदुपयोग हो सकता है तो मैंने उसे तुरंत मान लिया।’ यह सबकुछ संभव करने में स्थानीय सांसद गोपाल शेट्टी की अहम भूमिका रही है। उत्तरी मुंबई में विकट परिस्थिति को देखते हुए निजी जगहों को अस्पताल में परिवर्तित करने के लिए उन्होंने एक मुहिम छेड़ रखी है। इस मुहिम के तहत उन्होंने मेहुल संघवी को संपर्क किया और उन्हें इस इमारत को महानगरपालिका को सौंपने के लिए राजी कर लिया।

पढ़ें: UP में डराने लगी कोरोना की चाल, 809 मामले

इमारत को बनाया क्वारंटीन सेंटर



‘क्वारंटीन सेंटर के रूप में सौंपी गई इमारत’

उत्तर मुंबई के सांसद गोपाल शेट्टी ने कहा, ‘हमें खुशी है कि लोग अपने निजी हित को किनारे करके समाज सेवा में जुटे हैं। इसी प्रकार के साझा प्रयासों से इस मुश्किल घड़ी से लोग अपने आप को बचा पाएंगे।’ वॉर्ड ऑफिसर संजय कबरे ने बताया, ‘हमें यह इमारत कोरोना अस्पताल और क्वारंटीन सेंटर के रूप में सौंपी गई है। हमें विश्वास है कि इस तरह की पहल से हम लोगों की ज्यादा बेहतर ढंग से सेवा कर पाएंगे।’

Source link

admin

Recent Posts

मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे का एक साथी कोरोना पॉजिटिव, आज सुबह फरीदाबाद से हुआ था गिरफ्तार

फरीदाबाद में होटल में रेड के बाद सीसीटीवी फुटेज वायरल हो रहा है. इसमें विकास दुबे के होने का शक…

1 hour ago

उत्तराखंड बोर्ड का बड़ा ऐलान, 10वीं-12वीं के छात्रों को बचे विषयों में औसत अंक देकर परीक्षाफल होगा घोषित

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने आदेश जारी कर दिया है. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण…

3 hours ago

जयपुर: 78 साल के बुजुर्ग ने अस्पताल की दूसरी मंजिल से कूद कर दी जान, हैरान करने वाली थी वजह

मरीज को कावंटिया अस्पताल से कोरोना संग्दिध मानते हुए आरयूएचएस लाया गया था. (सांकेतिक फोटो) जयपुर (Jaipur) के कोरोना उपचार…

3 hours ago

शोध में खुलासा-डिप्रेशन कम करने में प्रोबायोटिक हो सकता है मददगार

प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपका पाचन और प्रतिरक्षा को बेहतर होता है. प्रोबायोटिक्स (Probiotic) खाद्य पदार्थ वह…

3 hours ago

गैंगस्टर विकास दुबे के दो साथियों को फरीदाबाद कोर्ट ने कानपुर पुलिस को सौंपा

फरीदाबाद कोर्ट का बड़ा फैसला. फरीदाबाद कोर्ट (Faridabad Court) ने आरोपी प्रभात उर्फ कार्तिकेय को 24 घंटे के ट्रांजिट रिमांड…

4 hours ago

चित्रकूट: मजदूरी के बदले लड़कियों के साथ यौन शोषण की रिपोर्ट, डीएम ने किया खंडन

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में एक खबर ने पूरे प्रदेश को हिला कर रख दिया इस खबर में मजदूरी के…

4 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts