Categories: पंजाब

संक्रमण का खतरा फिर भी 60 कोरोना मरीजों का किया एक्स-रे

  • 4 एक्स-रे टेक्नीशियन अस्पताल के डीडीआरसी सेंटर में बने आइसोलेशन वार्ड में दे रहे हैं ड्यूटी
  • बोले-दूर भागेंगे तो मरीजों का इलाज कौन करेगा

दैनिक भास्कर

Jun 22, 2020, 06:36 AM IST

बठिंडा. कोरोना संक्रमण के बीच बठिंडा सिविल अस्पताल में डॉक्टर सहित कुछ कर्मचारी ऐसे हैं, जो सीधे तौर पर खतरा उठाकर व जान का जोखिम में डालकर काम कर रहे हैं। ऐसे ही कर्मचारी हैं रेडियोग्राफर विभाग के एक्स-रे टेक्नीशियन। ये सीधे तौर पर काेराेना मरीजों के संपर्क में आकर उनका एक्सरे करते हैं।

पिछले तीन माह से एक्सरे- टेक्नीशियन की 4 सदस्यीय टीम आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों का ऐक्सरे कर रही है। शनिवार शाम को डीडीआरसी सेंटर में बने आइसोलेशन वार्ड में दाखिल दो महिला व 5 पुरुष मरीजों के चेस्ट एक्सरे किए गए।

टीम की ओर से अब तक करीब 60 से अधिक पॉजिटिव मरीजों के एक्स-रे किए जा चुके हैं। अस्पताल में डाक्टरों और पैरा-मेडिकल स्टाफ पर बहुत बड़ी जिम्मेदारी आ गई है।

इस विपदा की घड़ी में उनके ऊपर संक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। कोरोना मरीजों की कई तरह की जांच की जाती है, ऐसे ही एक जांच में चेस्ट का एक्स-रे भी किया जाता है।

एक्स-रे के माध्यम से जांचा जाता है कि कोरोना मरीजों में वायरस संक्रमण ने कोई नुकसान पहुंचाया है या नहीं।
सिविल अस्पताल के एक्स-रे टेक्नीशियन टीम की अगुवाई कर रहे संजीव कुमार ने बताया कि टीम में जगदेव सिंह, हरप्रीत सिंह व मनप्रीत कौर रेडियोग्राफर शामिल हैं।

एक्स-रे टेक्नीशियन संजीव कुमार ने बताया कि कुछ दिन पहले कोरोना पॉजिटिव मरीजों को सिविल अस्पताल स्थित आइसोलेशन में ही दाखिल किया जा रहा था। लेकिन अब कोरोना वार्ड सिविल अस्पताल से डीडीआरसी सेंटर में शिफ्ट कर दिया गया है। अब वहीं पर ही पोर्टेबल मशीन की मदद से वार्ड में ही पॉजिटिव मरीजों का पूरा इलाज किया जा रहा है।

3 माह में आइसोलेशन वार्ड में 60 से अधिक मरीजों का एक्सरे किया गया है। जबकि एक मरीज का एक्सरे करने के लिए कम से कम 6 कर्मचारियों की जरूरत होती है।

यही नहीं उक्त चारों कर्मचारी ऑन काल, ओपीडी, वार्ड व इमरजेंसी भी संभाल रहे हैं। यदि हम लोग ही इनसे दूर भागेंगे तो इनकी देखभाल व इलाज कौन करेगा।

उन्होंने कहा कि परिवार से अलग रहने का गम तो है लेकिन इस बात की खुशी है कि पूरी टीम एक महत्वपूर्ण कार्य कर रही है। एक्स-रे टेक्नीशियन जगदेव सिंह ने कहा कि आइसोलेशन वार्ड में ड्यूटी करने के लिए प्रत्येक कर्मचारी का रोस्टर बनाया जाता है।

Source link

admin

Recent Posts

मोस्ट वॉन्टेड विकास दुबे का एक साथी कोरोना पॉजिटिव, आज सुबह फरीदाबाद से हुआ था गिरफ्तार

फरीदाबाद में होटल में रेड के बाद सीसीटीवी फुटेज वायरल हो रहा है. इसमें विकास दुबे के होने का शक…

41 mins ago

उत्तराखंड बोर्ड का बड़ा ऐलान, 10वीं-12वीं के छात्रों को बचे विषयों में औसत अंक देकर परीक्षाफल होगा घोषित

उत्तराखंड विद्यालयी शिक्षा परिषद ने आदेश जारी कर दिया है. उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Government) ने कोरोना वायरस संक्रमण के कारण…

2 hours ago

जयपुर: 78 साल के बुजुर्ग ने अस्पताल की दूसरी मंजिल से कूद कर दी जान, हैरान करने वाली थी वजह

मरीज को कावंटिया अस्पताल से कोरोना संग्दिध मानते हुए आरयूएचएस लाया गया था. (सांकेतिक फोटो) जयपुर (Jaipur) के कोरोना उपचार…

2 hours ago

शोध में खुलासा-डिप्रेशन कम करने में प्रोबायोटिक हो सकता है मददगार

प्रोबायोटिक खाद्य पदार्थों का सेवन करने से आपका पाचन और प्रतिरक्षा को बेहतर होता है. प्रोबायोटिक्स (Probiotic) खाद्य पदार्थ वह…

2 hours ago

चित्रकूट: मजदूरी के बदले लड़कियों के साथ यौन शोषण की रिपोर्ट, डीएम ने किया खंडन

उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में एक खबर ने पूरे प्रदेश को हिला कर रख दिया इस खबर में मजदूरी के…

3 hours ago

प्राइवेट स्कूलों की फीस पर DEO रखेंगे नजर, HC के दखल के बाद शासन ने दिया आदेश

नैनीताल हाईकोर्ट द्वारा सरकार को इस पूरे मामले को लेकर नोडल अधिकारी नियुक्त करने के निर्देश दिए गए थे. जिसके…

4 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts