हिमाचल: जब चीन से तनाव पर बॉर्डर से शिफ्ट किए गए लोगों ने स्पीति में बसाया गांव ‘चंडीगढ़’

हिमाचल के स्पीति में काजा से 33 किमी पहले गांव चंडीगढ़.

सीमा पर तनातनी के चलते सीमा से लगते गांवों पर भी असर पड़ता है. हिमाचल की करीब 230 से 250 किमी की सीमा तिब्बत से लगती है, जिसपर चीन (China) का कब्जा है.

शिमला. लद्दाख की गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारत-चीन सैनिकों के बीच झड़प (Indo China Clash) के बाद बॉर्डर पर तनाव है. यह पहला मौका नहीं है, जब भारत और चीन की सीमाओं पर तनाव हुआ है. तनाव के चलते हिमाचल की तिब्बत के साथ की सीमाओं के लिए भी अलर्ट जारी किया गया है. प्रदेश के किन्नौर (Kinnuar) और स्पीति के सीमांत इलाकों में लोगों को अलर्ट किया गया है. गौरतलब है कि सीमा पर तनातनी के चलते सीमा से लगते गांवों पर असर पड़ता है. बता दें कि हिमाचल की करीब 230 से 250 किमी की सीमा तिब्बत से लगती है और तिब्बत पर चीन का कब्जा है.

यह गांव की कहानी
ऐसा ही एक गांव हिमाचल प्रदेश के स्पीति में है जिसका नाम है चंडीगढ़ सेक्टर-13. इस गांव के नाम के पीछे की कहानी बड़ी रोचक है. लाहौल-स्पीति जिला के काजा उपमंडल से करीब 33 किमी दूर चंडीगढ सेक्टर-13 है. बताया जाता है कि 80 के दशक में जब चीन सीमा पर विवाद बढ़ा तो स्पीति में बॉर्डर से सटे कौरिक गांव के ग्रामीणों को वहां से हटाना पड़ा. बताया जाता है कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने बॉर्डर का दौरा किया और इस गांव के 33 परिवारों से वादा किया था कि उन्हें पंजाब और हरियाणा की राजधानी चंडीगढ़ में बसाया जाएगा, लेकिन ग्रामीणों से किया गया वादा पूरा नहीं हो पाया.

कौरिक से शिफ्ट किए गए लोगसेना ने फौरी तौर पर कौरिक गांव के इन परिवारों को सीमा से करीब 60 किमी पीछे जमीन देकर शिफ्ट कर दिया. लोक निर्माण विभाग के एक इंजीनियर ने इसे चंडीगढ़ नाम दिया तथा रेवन्यू रिकार्ड में भी इस गांव का नाम चंडीगढ़ से दर्ज किया गया.

बाद में ग्रामीणों ने रखा सेक्टर-13
ग्रामीणों को जब चंडीगढ़ में नहीं बसाया गया तो उन्होंने गांव का नाम चंडीगढ़ का सेक्टर-13 रख दिया, क्योंकि चड़ीगढ़ में 13 सेक्टर नहीं है. चंडीगढ़ को बनाने वाले ली कार्बूजिए ने सेक्टर-13 नहीं बनाया था, क्योंकि वे 13 अंक को अनलकी मानते थे. इसी कारण गांववासियों ने विरोधस्वरूप गांव का नाम चंडीगढ़ की बजाय चंडीगढ़ सेक्टर-13 कर दिया. हालांकि, अब हाल ही में चंडीगढ़ के मनीमाजरा में सेक्टर-13 बनाया है. हाईवे पर सटा यह गांव अब टूरिस्ट के लिए आकर्षण का केंद्र है.

स्पीति का लांगजा गांव. यहां बड़ी संख्या में टूरिस्ट आते हैं.

गांव में ये हैं सुविधाएं
गांव के अधिकतर लोग खेती बाड़ी पर निर्भर हैं. गांव में पारंपरिक खेती की जाती है. गांव में अधिकतर लोग मटर, जौ और सब्जियां उगाकर जीवन यापन करते हैं. गांव में डिस्पेंसरी भी है तो पशुओं का इलाज करवाने के लिए वेटनरी अस्‍पताल भी. सरकारी स्कूल भी गांव में मौजूद है. 40 परिवारों के लिए बसाए गए इस गांव में अब 65 परिवार हैं. गांव से पहले ग्यू नामक जगह है, जहां 800 साल पुरानी बौध भिक्षु की ममी भी रखी गई है.

स्पीति का लांगजा गांव. इसके साथ ही बॉर्डर का कौरिक गांव पड़ता है.

सीएम ने की बैठक
हिमाचल में बॉर्डर एरिया में सुरक्षा का जायजा और समीक्षा लेने के लिए सीएम जयराम ठाकुर ने शुक्रवार को शिमला में अधिकारियों के साथ बैठक की है.सीएम ने कहा कि इस संबंध में ज्यादा जानकारी नहीं दी जा सकती है, क्योंकि मामला सवेंदनशील है. लेकिन सरकार पूरे हालात पर नजर बनाए हुए है.


First published: June 20, 2020, 10:27 AM IST

admin

Recent Posts

OPINION: टाइगर स्टेट का तमगा क्यों नहीं संभाल पाता मध्यप्रदेश?

दिनेश गुप्ता मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के जंगलों में टाइगर (Tiger) सुरक्षित क्यों नहीं है, इस पर चिंता की कोई लकीर…

36 mins ago

गुजरात: 20 लाख रुपये रिश्वत लेने के आरोप में महिला पुलिस उप निरीक्षक गिरफ्तार

अहमदाबाद, पांच जुलाई (भाषा) गुजरात में बलात्कार के एक आरोपी से कथित तौर पर 20 लाख रुपये रिश्वत लेने के…

45 mins ago

आढ़ती को करोड़ों का चूना लगाने के बाद फर्जी इकरारनामा पेश किया, अपने पिता को भी मृत दिखाया

हरबंसपुरा निवासी रवि कुमार और उसके भाई गुलशन कुमार के रूप में हुई है आरोपियों की पहचानजालंधर बाईपास स्थित नई…

46 mins ago

कानपुर: विकास दुबे ने घर की दीवारों में चुनवाए थे हथियार और कारतूस, पुलिस का खुलासा

Edited By Aishwary Rai | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated: 05 Jul 2020, 03:54:00 PM IST 'श्रीप्रकाश से लेकर विकास दुबे...कैसे पनपते…

1 hour ago

कोरोना संक्रमित का शव जलाने को लेकर हंगामा, पुलिस पर पथराव

हाइलाइट्सजमशेदपुर में कोरोना संक्रमित के शव को जलाने को लेकर जोरदार हंगामास्थानीय लोगों ने शव को जलाने का किया विरोध,…

2 hours ago

पिता के साथ हुई एक घटना ने बदल दी विकास दुबे की दुनिया, गैंगस्टर बन लगाने लगा ‘अदालत’

विकास दुबे का खौफ ऐसा था कि कोई भी उसके सामने सिर नहीं उठाता था. Kanpur Shootout: विकास दुबे (Vikas…

2 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts