Categories: झारखंड

Jharkhand News: अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गोल्ड जीतने वाली लॉनबॉल खिलाड़ी सरिता तिर्की ईंट-बालू ढोने को मजबूर, सीएम ने लिया संज्ञान

Lawn Bowl player Sarita Tirkey: बेहद गरीब परिवार की सरिता तिर्की ने पहली बार 2007 में 33वें राष्ट्रीय खेलों में राज्य का प्रतिनिधित्व किया और ब्रॉन्ज हासिल किया था। झारखंड में 2011 में 34वें राष्ट्रीय खेल में उन्होंने बिहार की ओर से खेलते हुए गोल्ड जीता। इसके बाद फिर केरल में हुए 35वें राष्ट्रीय खेल में उन्होंने झारखंड के लिए खेला और गोल्ड हासिल किया।

Edited By Ruchir Shukla | Lipi | Updated:

हाइलाइट्स
  • लॉनबॉल प्लेयर सरिता तिर्की आर्थिक संकट में, जीत चुकी हैं गोल्ड मेडल
  • आर्थिक तंगी की वजह से ईंट और बालू ढोने के लिए मजबूर हैं सरिता तिर्की
  • सीएम हेमंत सोरेन ने रांची के उपायुक्त को दिए सरिता को जरूरी मदद देने के निर्देश
  • सरिता तिर्की ने पहली बार 2007 में 33वें राष्ट्रीय खेलों में राज्य का प्रतिनिधित्व किया

रवि सिन्हा, रांची

अंतरराष्ट्रीय खेलों में गोल्ड जीतने वाली रांची (Ranchi News) की लॉनबॉल प्लेयर सरिता तिर्की इस समय आर्थिक संकट से जूझ रही हैं। कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते उनका परेशानियां और भी बढ़ गई, हालात ऐसे हो गए कि उन्हें मजदूरी के लिए मजबूर होना पड़ा। उनकी आर्थिक परेशानियों से जूझने की खबर जैसे ही मीडिया में आई, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस पर संज्ञान लिया है। मुख्यमंत्री ने रांची के उपायुक्त को लॉनबॉल खिलाड़ी सरिता को जरूरी सहायता उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।

सरिता तिर्की ईंट-बालू ढोने को मजबूर

रांची की रहने वाली लॉनबॉल खिलाड़ी सरिता तिर्की ने झारखंड की ओर से कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। फिलहाल वो आर्थिक तंगी की वजह से ईंट और बालू ढोने के लिए मजबूर हैं। घर की आर्थिक परिस्थितियों की वजह से सरिता महिला मजदूर का काम कर घर चलाने में परिवार का सहयोग कर रही हैं। यह भी जानकारी मिली है कि खेल संगठनों और सरकार की उपेक्षा के कारण लॉकडाउन के पहले सरिता दूसरे के घरों में दाई का काम करके आजीविका चलाने को मजबूर थी।

झारखंड के CRPF कैम्प में कोरोना ने मचाया हड़कंप, 17 जवान मिले पॉजिटिव

कोरोना संकट और लॉकडाउन में बिगड़े हालात

इसी बीच कोरोना संकट के बाद लोगों ने उन्हें अपने घर में काम करने आने से मना कर दिया। इसके बाद सरिता ने चाय और पकौड़े की दुकान भी खोली, लेकिन वह भी नहीं चल सकी। तेज आंधी से दुकान को नुकसान पहुंचा। इसके बाद सरिता के पास और कोई रास्ता नहीं बचा फिर वह मजदूरी का काम करने लगी। बेहद गरीब परिवार की सरिता तिर्की ने पहली बार 2007 में 33वें राष्ट्रीय खेलों में राज्य का प्रतिनिधित्व किया और ब्रॉन्ज हासिल किया था।

झारखंड: श्रम मंत्री सत्यानंद भोक्ता ने कुछ इस अंदाज में खेतों में बहाया पसीना, देखें वीडियो

प्रदेश की ओर से जीत चुकी हैं गोल्ड मेडल

झारखंड में 2011 में 34वें राष्ट्रीय खेल में उन्होंने बिहार की ओर से खेलते हुए गोल्ड जीता। इसके बाद फिर केरल में हुए 35वें राष्ट्रीय खेल में उन्होंने झारखंड के लिए खेला और गोल्ड हासिल किया। इसके अलावा 2015 में हुए पांचवें नेशनल लॉन बॉल चैंपियनशिप में उन्होंने गोल्ड 2017 में छठी नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड 2019 में आयोजित सातवें नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड सिल्वर जीता। पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में हुए एशिया पेसिफिक चैंपियनशिप में सरिता को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा था।

इसे भी पढ़ें:- Explainer : क्या है मैनहर्ट जिसने झारखंड की राजनीति में ला दिया भूचाल



आर्थिक संकट की वजह से परेशान हैं सरिता

जानकारी के मुताबिक, सरिता को रहने के लिए अपना घर भी नहीं है और उसके परिजन दूसरे की जमीन पर घर बना कर फिलहाल रहते हैं। सरिता और उसके परिजनों सरकार की ओर से मदद की उम्मीद है। बताया गया है कि सरिता को 3.72 लाख रुपये का पुरस्कार भी मिलने वाला है, इसी कारण उसका नाम कैश अवार्ड या छात्रवृत्ति की सूची में शामिल नहीं किया गया। सरिता ने बताया कि पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में हुए एशिया पैसिफिक चैंपियनशिप में हिस्सा लेने जाने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे। उस समय उन्होंने साथी खिलाड़ियों और परिचितों से डेढ़ लाख रुपये उधार लिए, उन्हें उम्मीद थी कि खेल विभाग की ओर से अगर पैसे मिल जाते तो अवार्ड और छात्रवृत्ति से उधार लिए पैसे वापस कर देतीं। लेकिन ऐसा नहीं होने से मानसिक रूप से काफी परेशान हैं।

मुख्यमंत्री ने दिए जरूरी सहायता मुहैया कराने के निर्देश

सरिता का सपना है कि वह एक बार कॉमनवेल्थ गेम खेलें इससे पहले कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए भारतीय कैंप में उनका सेलेक्शन जरूर हुआ था लेकिन वह खेल नहीं पाई। इस बीच सरिता के आर्थिक परेशानियों से जूझने की खबर जैसे ही मीडिया में आई, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस पर संज्ञान लिया। उन्होंने रांची के उपायुक्त छवि रंजन को लॉनबॉल खिलाड़ी सरिता को जरूरी सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

(झारखंड और आपके शहर की हर खबर अब Telegram पर भी। हमसे जुड़ने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें और पाते रहें हर जरूरी अपडेट।)

Web Title gold medallist lawn bowl player sarita tirkey carries bricks earn living jharkhand cm to provide help(Hindi News from Navbharat Times , TIL Network)

रेकमेंडेड खबरें

Source link

admin

Recent Posts

Rajasthan Crisis : कांग्रेस-बीजेपी दोनों के लिए परेशानी बन सकता है राजे गुट

राजस्थान की पूर्व CM वसुंधरा राजे ने दिल्ली में जेपी नड्डा से मुलाकात की. (फाइल फोटो) बड़ा दबाव राजे गुट…

27 mins ago

नोएडा: कोविद -19 टैली 5,868 तक पहुंच गई, सक्रिय मामलों में वृद्धि 937 | नोएडा समाचार – टाइम्स ऑफ इंडिया

NOIDA: उत्तर प्रदेश का गौतम बौद्ध नगर आधिकारिक आंकड़ों से पता चलता है कि शनिवार को 65 ताजा कोविद -19…

39 mins ago

राजस्थान में राजनीतिक संकट के बीच सक्रिय हुईं वसुंधरा, नड्डा के बाद राजनाथ सिंह से मिलीं

राजस्थान की पूर्व CM वसुंधरा राजे ने राजनाथ सिंह से मुलाकात की है (फाइल फोटो) हालांकि इन मुलाकातों के दौरान…

59 mins ago

हिमाचल: मंडी में एक साथ 14 कोरोना मरीज मिलने से हड़कंप, 6 बाहरी मजदूर

मंडी में कोरोना के 14 नये केस सामने आए (सांकेतिक तस्वीर) डीसी ऋग्वेद ठाकुर ने 14 नए मामलों की पुष्टि…

1 hour ago

अयोध्या में भूमि पूजन स्थल की रायसेन के फूलों ने बढ़ाई थी शोभा, भगवान राम से जिले का है खास कनेक्शन

5 अगस्त को पीएम मोदी के हाथों अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर भूमि पूजन संपन्न हुआ पॉलीफार्म के…

2 hours ago

VIDEO: आगरा में बाप ने बच्चे को खिड़की से बांधकर उल्टा लटका दिया, और फिर…

आगरा में बाप ने एक बच्चे को खिड़की से बांधकर उल्टा लटका दिया इस मामले पर एसएसपी (SSP) आगरा बबलू…

2 hours ago

Search News

Subscribe A2znews For News, Jobs & lifestyle

Recent Posts